तेहरान ईरान के राष्ट्रपति हसन रुहानी ने आज कहा कि उनके देश के खिलाफ अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप की आक्रामक रणनीति यह दिखाती है कि अमेरिका ‘‘परमाणु समझौते के अपने विरोध में अलग-थलग पड़ गया है.’’ट्रंप ने व्हाइट हाउस में काफी समय से प्रत्याशित भाषण में 2015 के परमाणु समझौते के लिए अपना समर्थन ‘‘वापस’’ ले लिया और इसकी किस्मत का फैसला कांग्रेस पर छोड़ दिया. रुहानी ने कहा, ‘‘आज अमेरिका परमाणु समझौते के अपने विरोध और ईरानी लोगों के खिलाफ अपने मंसूबों में सबसे ज्यादा अलग थलग पड़ा है. ’’ उन्होंने कहा, ‘‘आज जो भी सुना गया वे केवल बेबुनियाद

अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने 2015 में हुए पेरिस जलवायु समझौते से बाहर निकलने की घोषणा की है. ट्रंप ने 2016 में राष्ट्रपति चुनाव के प्रचार के दौरान इसकी घोषणा की थी. इस फैसले के साथ अमेरिका ग्लोबलवार्मिंग से मुकाबले में अंतरराष्ट्रीय प्रयासों से अलग हो गया. ट्रंप ने समझौते से पल्ला झाड़ते हुए कहा कि हमारे नागरिकों के संरक्षण के अपने गंभीर कर्तव्यों को पूरा करने के लिए अमेरिका पेरिस जलवायु समझौते से हट रहा है. हम उससे हट रहे हैं और फिर से बातचीत शुरू करेंगे. ट्रंप ने आगे कहा कि वे चाहते हैं कि जलवायु परिवर्तन को लेकर पेरिस