रियाद सऊदी अरब के प्रिंस मंसूर बिन मोकरिन की एक हेलीकॉप्‍टर हादसे में मौत हो गई। गृह मंत्रालय ने आज सुबह इसकी पुष्टि की। हादसा रविवार को यमन सीमा के पास सऊदी अरब के असीर प्रांत में हुआ। हेलीकाॅप्‍टर में प्रिंस मंसूर के साथ कई उच्‍च स्‍तर के सरकारी अधिकारी मौजूद थे। यमन सीमा से 160 किमी की दूरी पर आभा शहर के पास उनका हेलीकॉप्‍टर दुर्घटनाग्रस्‍त हो गया। पूर्व क्राउन प्रिंस के थे बेटे प्रिंस मंसूर असीर प्रांत के डिप्टी गवर्नर और पूर्व क्राउन प्रिंस मुकरिन अल सऊद के बेटे थे। प्रिंस मंसूर के पिता को उनके सौतेले भाई किंग सलमान ने

रियाद सऊदी अरब के जेद्दा स्थित शाही महल के प्रवेश द्वार पर एक बंदूकधारी के हमले में महल के दो सुरक्षाकर्मियों की मौत हो गई। तीन अन्य सुरक्षाकर्मी घायल हो गए। महल के मुस्तैद सुरक्षाकर्मियों ने हमलावर को मार गिराया। सऊदी गृह मंत्रालय के अनुसार हमलावर की पहचान 28 साल के सऊदी नागरिक के रूप में की गई है। उसके पास से एक एके-47 राइफल और तीन ग्रेनेड बरामद हुए। वह हुंडई कार से आया और अल-सलाम महल की पश्चिमी जांच चौकी पर तैनात रॉयल गा‌र्ड्स पर गोलीबारी करने लगा। उसके कायराना हमले में दो सुरक्षाकर्मी शहीद हो गए। जवाबी कार्रवाई में

दोहा सऊदी व कतर के नेताओं के बीच राजनयिक संकट को खत्‍म करने के लिए फोन पर हुए बातचीत के बाद एक नया विवाद शुरू हो गया है क्योंकि रियाद ने दोहा पर तथ्‍यों को नष्‍ट करने व संचार को खत्‍म करने का आरोप लगाया। शिन्‍हुआ न्‍यूज के अनुसार, सऊदी अरब के क्राउन प्रिंस मोहम्‍मद बिन सलमान को कतरी एमिर शेख तामिम बिन हमद अल थानी ने शुक्रवार को फोन किया और तीन महीनों से चल रहे तनाव को खत्‍म करने के लिए वार्ता का आग्रह किया। 5 जून को सऊदी अरब, बहराइन, मिस्र, यूएई ने कतर के साथ राजनयिक संबंधों

आतंकवाद का समर्थन करने के आरोप में सऊदी अरब, संयुक्त अरब अमीरात, मिस्र एवं बहरीन समेत कई देशों द्वारा राजनयिक संबंध तोड़ने से दूध और अन्य खाद्य उत्पादों के लिए विदेशों पर निर्भर रहने वाले कतर ने ताजा संकट से निपटने के लिए नायाब तरीका खोज निकाला है. संकट की इस घड़ी में कतर के एक बड़े व्यवसायी मोताज अल खयात ने ऑस्ट्रेलिया और अमेरिका से चार हजार गायों को कतर एयरवेज के विमानों से दोहा लाने का फैसला किया है. इन गायों को दोहा लाने के लिए कतर एयरवेज के विमानों को करीब 60 बार उड़ान भरनी होंगी. एक वयस्क गाय

सऊदी अरब, बहरीन, मिस्त्र और संयुक्त अरब अमीरात ने कतर से रिश्ते खत्म करने का ऐलान कर दिया. चारों देशों ने कतर के साथ डिप्लोमेटिक रिश्तों के साथ जमीन, समुद्र और हवाई रिश्ते भी खत्म कर दिए. आतंकी और चरमपंथी संगठनों को समर्थन का आरोप लगाते हुए कतर के खिलाफ ये एक्शन लिया गया. सऊदी अरब ने अपने फैसले की जानकारी देते हुए कहा कि सऊदी को आतंकवाद और कट्टरपंथ से बचाने के लिए यह कदम उठाना जरूरी था. सऊदी ने कहा कि देश के साम्राज्य को बचाने के लिए ये कदम उठाया गया है. वहीं बहरीन ने कहा है कि वह