नोटबंदी की पहली सालगिरह से ठीक पहले मोदी सरकार के इस फैसले का बड़ा असर नजर आया है. सरकार के कदम से बड़ी संख्या में फर्जी कंपनियों पर गाज गिरी है. इन कंपनियों के खाते भी बंद कर दिए गए हैं. वाणिज्यिक मंत्रालय के मुताबिक करीब 2.24 कंपनियों को बंद कर दिया गया है. ये ऐसी कंपनियां हैं, जिनमें पिछले दो सालों से कोई कामकाज नहीं हुआ है. जबकि नोटबंदी के बाद इन कंपनियों से करीब 17 हजार करोड़ का लेन-देन किया गया. बैंकों की जानकारी पर कार्रवाई सरकार ने ये कार्रवाई बैंकों की जानकारी के आधार पर की है. बताया गया है