इराक में मुस्लिम लड़कियों की शादी की न्यूनतम उम्र की सीमा समाप्त करने के लिए संसद में प्रस्ताव पेश किया गया है। इस प्रस्ताव की काफी आलोचना हो रही है और समझा जा रहा है कि इससे बच्चियों के रेप का लाइसेंस मिल जाएगा। कंजर्वेटिव शित्ते के प्रतिनिधियों ने 31 अक्टूबर को 1959 के कानून में संशोधन के साथ एक बिल पेश किया। इस कानून में लड़कियों की शादी की उम्र 18 साल है। अब नए कानून के तहत शित्ते और सुन्नी समुदाय के धार्मिक नेताओं की सहमति पर किसी भी उम्र की लड़की की शादी हो पाएगी। लिबरल इंडिपेंडेंट सांसद फाइक अल-शेक ने