गुजरात में पाटीदार आंदोलन के नेता और हार्दिक पटेल के सहयोगी नरेंद्र पटेल ने दावा किया है कि बीजेपी ने उन्हें अपने पाले में शामिल करने के लिए एक करोड़ रुपये देने का ऑफर दिया था। रविवार को एक प्रेस कॉन्फ्रेंस के दौरान नरेंद्र पटेल ने मीडिया को 10 लाख रुपये कैश भी दिखाए जो कथित रूप से वरुण पेटल ने उन्हें दिए थे। वरुण पटेल हाल ही में बीजेपी में शामिल हुए हैं। नरेंद्र पटेल ने कहा, 'वरुण पेटल मुझे गांधीनगर ले गया। इसके बाद हमलोग श्री कमलम (बीजेपी दफ्तर) पहुंचे। वहां उसने मुझे गुजरात बीजेपी के अध्यक्ष जीतूभाई वघानी

गुजरात के आणंद जिले में रविवार तड़के एक गरबा में शामिल होने पर कथित तौर पर एक 21 साल के दलित युवक की पीट-पीट कर हत्या कर दी गई। आरोप पटेल कम्युनिटी के लोगों पर है। इस मामले में पुलिस ने 8 लोगों के खिलाफ मामला दर्ज किया है। यूज एजेंसी ने पुलिस के हवाले से बताया है कि जयेश सोलंकी, उसका रिश्तेदार प्रकाश सोलंकी और दो अन्य दलित भद्रानिया गांव में एक मंदिर से लगे घर के पास बैठे थे। तभी एक शख्स ने उनकी जाति को लेकर गलत भाषा का इस्तेमाल किया।  भद्रान थाने के एक ऑफिसर के मुताबिक,

जापान के प्रधानमंत्री शिंजो आबे भारत पहुंच गए हैं. पीएम मोदी ने खुद अहमदाबाद एयरपोर्ट पर आबे का गले लगाकर स्वागत किया. इसके बाद शि‍ंजो आबे को एयरपोर्ट पर ही गार्ड ऑफ ऑनर दिया गया. पीएम नरेंद्र मोदी और जापान के पीएम शिंजो आबे जॉइंट रोड शो के बाद साबरमती आश्रम पहुंचे. PM Modi & Japanese PM Shinzo Abe's road show to Sabarmati Ashram in Ahmedabad, begins. pic.twitter.com/QJGpkIkdVg — ANI (@ANI) September 13, 2017 दोनों ने आश्रम में मौजूद महात्मा गांधी की निजी स्मरणीय वस्तुओं को देखा. यहां दोनों पीएम ने महात्मा गांधी को श्रद्धा सुमन अर्पित किया और रिवर फ्रंट पर भी थोड़ा वक्त

अहमदाबाद अब वर्ल्ड हेरिटेज सिटी बन गई है। यूनेस्को से यह दर्जा पाने वाला यह देश का पहला शहर है. इस पर मोदी ने रविवार को ट्विटर पर लिखा- यह देश के लिए खुशी का मौका है. यूनेस्को की 41वें सेशन की पोलैंड के क्राको शहर में हुई मीटिंग में यह एलान किया गया. अहमदाबाद में हिंदू, इस्लामिक और जैन धर्मों के लोगों के एक साथ बसने और यहां के बेहतरीन आर्किटेक्चर की वजह से इसका सिलेक्शन हुआ. अहमदाबाद में आर्कियोलाॅजिकल सर्वे ऑफ इंडिया के प्रोटेक्शन वाली 26 साइट्स हैं. सैकड़ों पोल हैं. महात्मा गांधी भी यहां 1915 से 1930 के