ऑल इंडिया काउंसिल फॉर टेक्निकल एजुकेशन (एआईसीटीई) अगले एकेडमिक ईयर से देशभर में 800 इंजीनियरिंग कॉलजों को बंद करने जा रहा है. बताया जा रहा है कि यह फैसला इसलिए लिया गया, क्योंकि पिछले पांच सालों में इन कॉलेजों में काफी कम एडमिशन हुए हैं. एआईसीटीई ने सभी कॉलेजों को सितंबर के दूसरे सप्ताह तक रिपोर्ट तलब करने को कहा है. ऐसे कॉलेज जिनमें पिछले पांच सालों में 30 फीसदी से कम एडमिशन हुए हैं, उन्हें बंद करने या फिर पास के किसी कॉलेज के साथ मिला देने का ऑप्शन रखा गया है. बताया जा रहा है कि यह फैसला

देश के शिक्षा क्षेत्र में बड़े सुधार के लिए मोदी सरकार बड़ा कदम उठाने जा रही है। यूनिवर्सिटी ग्रांट्स कमिशन (UGC) और ऑल इंडिया काउंसिल फॉर टेक्निकल एजुकेशन (AICTE) की जगह एक हायर एजुकेशन रेग्युलेटर बनाने जा रही है। इस रेग्युलेटर का नाम हायर एजुकेशन एंपावरमेंट रेग्युलेशन एजेंसी (HEERA) रखा गया है। विशेषज्ञ लंबे समय से इस बदलाव की वकालत कर रहे थे, लेकिन इसे कभी अमलीजामा ही नहीं पहनाया जा सका। इस साल मार्च में प्रधानमंत्री की अध्यक्षता में हुई एक बैठक में यह फैसला किया गया कि हायर एजुकेशन के लिए एक रेग्युलेटर बनाया जाए। हालांकि, नए रेग्युलेटर को