अंबाला के प्राइवेट कॉलेज में हथियारबंद युवकों की गुंडागर्दी सीसीटीवी में कैद हो गई.हमलावर युवकों ने कॉलेज की कैंटीन में बैठे छात्रों पर जानलेवा हमला किया.इस हमले में कई छात्र घायल हुए हैं वहीं,गंभीर हालत के बाद एक छात्र को पीजीआई चंडीगढ़ में भर्ती किया गया है.फिलहाल पुलिस सीसीटीवी फुटेज के आधार पर हमलावरों की तलाश में जुटी हुई है.  

अंबाला कपड़ा मार्किट में दुकानदार को एक व्यक्ति ने एक लाख रुपए का चूना लगा दिया, हालांकि दुकानदार को उस वक्त चोरी का एहसास नहीं हुआ, लेकिन बाद में जब उसने हिसाब लगाया तो उसे समझ आया। ये पूरी वारदात दुकान में लगे सीसीटीवी कैमरा में में कैद हो गयी। दुकानदार ने बताया, मंगलवार की दोपहर एक व्यक्ति और एक महिला दुकान पर आए और महिला ने दुपट्टा खरीदने की बात कही। इस बीच आरोपी व्यक्ति दुकानदार से बातों में लग गया। आरोपी पैसे बदलवाने के नाम पर उसके गल्ले तक पहुंच गया और उसके गल्ले से उसने एक लाख रुपए

पंचकूला के सिविल अस्पताल में एमआरआई करवाने के लिए अंबाला जेल से लाए गए विचाराधीन कैदी दीपक कुमार को पुलिस हिरासत से भगा ले जाने के मामले में पुलिस को बड़ी सफलता मिली है। पुलिस ने दीपक को भगाने में मदद करने वाले आरोपी मंदीप को गिरफ्तार कर लिया है। पुलिस के मुताबिक आरोपी मंदीप चंडीगढ़ का रहने वाला है और ये कई मामलों संलिप्त है। यही नहीं मंदीप दो साल की जेल की सजा भी काट चुका है। पुलिस के मुताबिक दीपक को मिर्ची स्प्रे, रिवॉल्वर और भागने के लिए बाइक मंदीप ने ही मुहैया करवाई थी।

अम्बाला: बीडी फ्लोरमिल के पीछे शिवपुरी काॅलोनी में एक घर में बिजली निगम की टीम जब बिजली का बिल लेने पहुंची तो टीम पर हमला कर दिया. महिलाओं ने पुलिस कर्मियों से मारपीट की और वर्दी तक फाड़ डाली. एक व्यक्ति ने पुलिस कर्मी पर कस्सी से कई वार किए, लेकिन वह बच गया. एसडीओ विकास दीप शर्मा ने वहां से भागकर जान बचाई. बिजली चोरी की शिकायतों के बाद बिजली निगम के एसडीओ विकास दीप शर्मा के नेतृत्व में रेड टीम का गठन किया था. टीम में एएसआई बलविंद्र सिंह, जेई एमएम पांडे, असिस्टेंट लाइनमैन तिलक, रोहित, कपिल, विकास और सतीश

अंबाला कैंट के सिविल अस्पताल में डिलीवरी के बाद महिला की मौत हो गई, जिसके बाद महिला के परिजनों ने अस्पताल परिसर में जोरदार हंगामा किया। परिवारवालों ने महिला की मौत का आरोप डॉक्टर्स पर लगाया है, उनका कहना है कि डॉक्टर्स की लापरवाही की वजह से महिला की मौत हुई है। हंगामे की खबर मिलते ही सिविल अस्पताल के एसएमओ डॉक्टर सतीश मौके पर पहुंचे, और गुस्साए परिजनों का शांत करवाने की कोशिश की, लेकिन वो नहीं माने,,जिसके बाद पुलिस ने मौके पर पहुंच कर लोगों को शांत करवाया। बाद में पांच डॉक्टरों के पैनल ने महिला के शव का