विश्व चैंपियन मैरी कॉम ने एशियाई मुक्केबाजी चैंपियनशिप में स्वर्ण पदक जीत लिया है. 48 किग्रा श्रेणी में मैरी कॉम ने नॉर्थ कोरिया की किम हेआंग-मी को मात दी. इससे पहले मैरी कॉम ने मंगलवार को सोनिया लाठेर (57 किग्रा) के साथ फाइनल में जगह बनाई. इस मणिपुरी मुक्केबाज ने सेमीफाइनल में जापान की सुबासा कोमुरा को एकतरफा मैच में 5-0 से हराकर 6 में से पांचवीं बार इस चैंपियनशिप के फाइनल में पहुंचीं थी. मैरी कॉम का 48 किग्रा भार वर्ग में यह पहला एशियाई स्वर्ण पदक है. राज्यसभा सांसद और ओलिंपिक की कांस्य पदक विजेता 35 साल की मैरी कॉम

पांच बार की वर्ल्ड चैंपियन एम सी मेरी कॉम ने एशियाई मुक्केबाजी चैंपियनशिप में पांचवें स्वर्ण पदक की ओर कदम बढाते हुए आज फाइनल में प्रवेश कर लिया. मेरी कॉम ने जापान की सुबासा कोमुरा को 5-0 से हराया. वह छह में से पांचवीं बार इस टूर्नामेंट के फाइनल में पहुंची है. वह अपने पांचवें स्वर्ण पदक से केवल एक कदम दूर हैं. फाइनल जीतने पर यह 48 किलोवर्ग में उनका पहला एशियाई स्वर्ण होगा. राज्यसभा सांसद, ओलंपिक कांस्य पदक विजेता 35 साल की मेरी कॉम पांच साल 51 किलो में भाग लेने के बाद 48 किलोवर्ग में लौटी हैं. खबर के