अटारी-वाघा बॉर्डर पर बनी आईसीपी पर सुरक्षा कवच और मजबूत किया गया। अब पाकिस्तान से आने-जाने वाले ट्रकों की स्कैनर से जांच की जाएगी। इस आईसीपी के ऊपर पहली बार आईसीपी चैंबर ऑफ कॉमर्स का गठन किया गया है। इस बीच इस चैंबर की पहली मीटिंग हुई। जिसमें आईसीपी से जुड़े सभी विभागों के अधिकारी और राज्यसभा सांसद श्वेत मलिक मौजूद रहे। इस दौरान आईसीपी के जुड़े मुद्दों पर चर्चा की गई।

भारत का सबसे ऊंचा तिरंगा झंडा वाघा-अटारी बॉर्डर पर चार महीने बाद फिर से फहराया गया। देश के सबसे ऊंचे इस तिरंगे की लंबाई 360 फुट है। कहा जा रहा है कि इस ध्वज के बार-बार फटने के कारण चार महीने तक कोई नया झंडा नहीं लगाया गया था। अब भारत के इस सबसे ऊंचे ध्वज को ऐतिहासिक मौकों पर फहराया जाएगा। आपको बता दें कि इस झंडे का वजन 55 टन है, वाघा अटारी बॉर्डर पर इसे स्थापित करने के पूरे प्रोजेक्ट में करीब साढ़े तीन करोड़ रुपए का खर्च आया है। बीएसएफ के सहयोग से लहराए गए इस