उत्तर प्रदेश के एटीएस ने पहचान चुरा कर विदेशी नागरिकों और फर्जी लोगों को भारतीय सेना में भर्ती होने के मामले का खुलासा किया है. एटीएस ने सोमवार को वाराणसी से ऐसे ही एक नेपाली नागरिक को गिरफ्तार किया, जो दलाल को पांच लाख रुपये देकर सेना की गोरखा राइफल्स कंपनी में भर्ती हुआ था. गोपनीय जांच के आधार पर एटीएस थाना लखनऊ में मुकदमा दर्ज कर मामले की विवेचना इंस्पेक्टर विजय मल को दी गई. विवेचना में तीनों आरोपियों के खिलाफ जुटाए गए साक्ष्यों में आरोपों की पुष्टि हुई. इसके बाद 16 अक्टूबर को तीनों के खिलाफ गैर जमानती वारंट

यूपी एटीएस ने 5 राज्यों की पुलिस के साथ मिलकर आतंक के खिलाफ एक बड़े ऑपरेशन को अंजाम देते हुए 5 संदिग्ध आतंकियों को गिरफ्तार किया है. इनको मुंबई, लुधियाना और बिजनौर से पकड़ा गया है. इसके साथ ही 6 संदिग्धों को हिरासत में लेकर पूछताछ की जा रही है. खुरासान मॉड्यूल के ये आतंकी किसी बड़ी साजिश को अंजाम देने के फिराक में थे. बेल्जियम से मॉड्यूल का संचालन इस मॉड्यूल को शमिंदर सिंह उर्फ शेरी नियंत्रित करता है, जो अभी जर्मनी से इसका संचालन कर रहा है. ऐसा माना जाता है कि वह बेल्जियम में रह रहे जगदीश सिंह भूरा