जानलेवा गेम ब्लू वेल की चपेट में बच्चे ही नहीं, बल्कि बड़े भी आ चुके हैं। सिरसा जिले के डबवाली में ब्लू वेल गेम ने एक 25 वर्षीय युवक की जान ले ली। मृत युवक योगेश उर्फ जिम्मी सिंगला की गुरुवार को नहर में डूबने से मौत हो गई थी। तब इसे एक हादसा मान लिया गया था, लेकिन उसकी मौत के तीन दिन बाद अब रिश्तेदारों ने खुलासा किया है कि योगेश उर्फ जिम्मी सिंगला की मौत महज एक हादसा नहीं थी, बल्कि ब्लू वेल गेम उसकी खुदकुशी का कारण बना। रिश्तेदारों के माने तो वह तीन टास्क पार

हरियाणा के पंचकूला का 17 वर्षीय स्टूडेंट ब्लू व्हेल गेम का शिकार होने की खबर है। जानकारी के मुताबिक, चंडीगढ़ के डीएवी स्कूल सेक्टर-8 के 10वीं के स्टूडेंट करण ठाकुर ने शनिवार को अपने पंचकूला स्थित हाउस नंबर 217 सेक्टर-4 में फंदा लगा कर सुसाइड कर लिया। रविवार को पोस्टमार्टम के बाद उसका अंतिम संस्कार कर दिया गया। लेकिन शाम को जब करण के सामान की जांच की तो उसमें कुछ डायग्राम मिले, जिसमें आत्महत्या के तरीके थे और जब छानबीन की तो उसके मोबाइल में ब्लू व्हेल गेम मिला। [caption id="attachment_42483" align="alignnone" width="300"] नोटबुक में बनाए अजीब डायग्राम[/caption] करण के भाई

दिल्ली के अशोक विहार इलाके में बुधवार को ग्याहरवीं के एक छात्र कुश ने घर के चौथे फ्लोर से कूदकर खुदकुशी की कोशिश की. वह अभी सर गंगाराम अस्पताल के आईसीयू में भर्ती है. इस तरह की खबरें आ रही है कि कुश ब्लू व्हेल गेम खेला करता था. हालांकि पुलिस का कहना है कि अभी तक की जांच में ऐसा कुछ नहीं मिला है, क्योकि शरीर पर कोई ऐसे निशान नहीं मिले है. जिस जगह से बच्चे ने खुदकुशी की कोशिश की, वहां उसकी चप्पल, चश्मा और मोबाइल मिला है. बताया जा रहा है मूड़ा भी वहां था जिसपर चढ़कर

केंद्रीय महिला एवं बाल विकास मंत्री मेनका गांधीने गृहमंत्री और सूचना प्रौद्योगिकी मंत्री को पत्र लिखकर आग्रह किया है कि वे सोशल मीडिया से ब्लू व्हेल चैलेंज गेम को हटवाएं. उनके मंत्रालय की ओर से ट्विटर पर लिखा है कि यह बहुत दुर्भाग्यपूर्ण है कि इस आत्मघाती गेम ने अब तक पूरी दुनिया में 100 बच्चों की जान ले चुका है. इसके साथ ही जानकारी देते हुए बताया गया है कि मंत्री मेनका गांधी ने इस मुद्दे को सोमवार को गृहमंत्री राजनाथ सिंह और आईटी मिनिस्टर रविशंकर प्रसाद के सामने उठाया है. महिला एवं बाल विकास मंत्री ने अभिभावकों से

'ब्लू व्हेल' गेम मौत का दूसरा नाम बन चुका है. यह गेम तेजी से बच्चों को अपनी चपेट में ले रहा है. शनिवार को एक और छात्र इस जानलेवा गेम का शिकार हो गया. पश्चिम बंगाल के मिदनापुर जिले में 10वीं क्लास के छात्र अनकन ने बाथरुम में जाकर आत्महत्या कर ली. शुक्रवार को देहरादून में भी स्कूल प्रशासन ने पांच बच्चों को गेम में मिले जानलेवा टास्क से बचाया था. मिली जानकारी के अनुसार, दोनों ही मामलों में बच्चों ने 'ब्लू व्हेल' गेम खेला था, जिसमें उन्हें अपने आप को नुकसान पहुंचाने का चैलेंज दिया गया था. अनकन के पिता

इंदौर में मोबाइल गेम ब्लू व्हेल का आखिरी टास्क पूरा करने के लिए गुरुवार को एक स्टूडेंट स्कूल की तीसरी मंजिल से कूदने ही वाला था कि दोस्तों ने उसे खींच लिया और शोर मचा दिया। लड़का चमेली देवी पब्लिक स्कूल में 7वीं का स्टूडेंट है। उधर सोलापुर में भी एक स्टूडेंट इस गेम का लास्ट टास्क पूरा करने के लिए घर छोड़कर पुणे जा रहा था, लेकिन पुलिस ने उसे तलाश लिया। बता दें कि हाल ही में मुंबई में एक स्टूडेंट ने इस गेम को खेलते हुए बिल्डिंग से कूदकर सुसाइड कर ली थी। 50 दिन से खेल रहा