नई दिल्ली सूचना प्रौद्योगिकी और बीपीओ क्षेत्र में स्वचालन यानी ऑटोमेशन और आर्टिफिशियल इंटेलीजेंस यानी कृत्रिम बौद्धिकता के बढ़ते उपयोग का असर इस क्षेत्र की करीब 7 लाख नौकरियों पर पड़ेगा. वर्ष 2022 तक इस क्षेत्र में काम करने वाले कम कुशल कारीगरों की नौकरी जाने की संभावना है. यह खुलासा अमेरिका की एक शोध कंपनी एचएफएस रिसर्च के अध्ययन में हुआ है. हालांकि यह सभी के लिए बुरी खबर हो ऐसे हालात भी नहीं है. रिपोर्ट में कहा गया है कि इसी अवधि में मध्यम और उच्च कौशल रखने वालों के लिए नौकरी के अवसर बढ़ेंगे. यह पहला मौका नहीं है जब