दिल्ली पुलिस ने एक ऐसे जालसाज को गिरफ्तार किया है जो खुद को प्रधानमंत्री कार्यालय का निदेशक बताकर सीनियर ब्यूरोक्रेट से अपने काम करवाता था और उन पर धौंस जामाता था. यहीं नहीं उसने अपने विजटिंग कार्ड में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के कमरे का नंबर दिया था, लेकिन फ़ोन नंबर गलत था. पुलिस के मुताबिक गिरफ्तार शख्स का नाम कन्हैया कुमार उर्फ डॉक्टर केके है. पुलिस के मुताबिक कुमार की मुश्किल तब बढ़ गई जब उसने इसी साल 20 सितंबर को सेंट्रल विजिलेंस कमिश्नर से संपर्क किया और इंडियन डिफेंस अकॉउंट सर्विस के एक अधिकारी को मनचाहा पोर्टफोलियो देने को कहा.

दिल्ली पुलिस को मिली एक कॉल से पुलिस महकमे के हाथ-पांव फूल गए. यह कॉल एक धमकी भरा कॉल था, जिसमें यूपी के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को मारने की धमकी मिली थी. धमकी मिलते ही दिल्ली से लेकर यूपी तक हड़कंप मच गया. फोन पर अज्ञात शख्स ने योगी को बचाने के लिए पुलिस को एक घंटे का समय भी दिया. दिल्ली पुलिस की स्पेशल सेल इस मामले की जांच कर रही है. मिली जानकारी के मुताबिक, गुरुवार दोपहर लगभग तीन बजे दिल्ली पुलिस कंट्रोल रूम में एक फोन आया. फोन रिसीव करने पर दूसरी तरफ से बात कर रहे शख्स

अंतर्राष्ट्रीय आतंकी गिरोह अल कायदा के संदिग्ध आतंकी को दिल्ली पुलिस की स्पेशल सेल ने गिरफ्तार किया है। आतंकी का नाम रजा उल अहमद बताया जा रहा है। आतंकी बांग्लादेश में अल कायदा की ब्रांच अंसारुल्ला बांग्ला टीम का सदस्य है। 15 अगस्त से पहले आतंकी की गिरफ्तारी काफी अहम मानी जा रही है। जानकारी के मुताबिक रजा उल अहमद को अलकायदा ने खास भारत के बड़े शहरों को टारगेट करने का जिम्मा सौंपा था। उसके दो और साथी हैं, जिनमें से एक उत्तर प्रदेश के मुजफ्फनगर से गिरफ्तार हो चुका है, जबकि देवबंद-सहारनपुर का रहने वाला फैजान फरार अभी

दिल्ली दिल्ली पुलिस की स्पेशल सेल ने गुरुवार को गैंगस्टर छोटा शकील के शार्प शूटर को गिरफ्तार किया है. दिल्ली पुलिस को पता चला था कि छोटा शकील का सहयोगी जुनैद चौधरी पाकिस्तान में जन्मे कनाडाई लेखक तारिक फतेह को अपना निशाना बनाना चाहता था. स्पेशल सेल को सूचना मिली थी कि छोटा शकील का गूर्गा पश्चिमी दिल्ली के भागीरथ विहार फेज-1 के गगन सिनेमा के पास आने वाला है. सूचना के आधार पर पुलिस की संयु्क्त टीम ने मौके पर दबिश की. जहां से उसे गिरफ्तार कर लिया गया है. पुलिस के मुताबिक, चौधरी ही शकील के अन्य गैंग सदस्यों और अंडरवर्ल्ड

देश में आतंकी हमले की आशंका को लेकर भारतीय सुरक्षा एजेंसी आईबी ने दिल्ली और मुंबई में हाई अलर्ट जारी किया है. आईबी का कहना है कि आतंकी संगठन लश्कर-ए-तैयबा की इन दो बड़े शहरों पर नजर बनी हुई है और यहां कभी भी हमला किया जा सकता है. सुरक्षा एजेंसियों का कहना है कि 20-21 लोगों के एक समूह ने पाकिस्तान से चलकर भारत में प्रवेश किया है. भारत में घुसने के बाद इन्होंने खुद को छोटे-छोटे समूहों में बांट लिया. इंटेलिजेंस इनपुट का कहना है कि ऐसी सूचना मिली है कि इन सबको पाकिस्तान की खुफिया एजेंसी ने ट्रेनिंग दी है. पाकिस्तानी

दिल्ली पर एक बार फिर आतंकी हमले का खतरा मंडरा रहा है. खुफिया एजेंसियों ने दिल्ली पुलिस को आतंकी हमले का अलर्ट भेजा है. इंटेलिजेंस ब्यूरो (आईबी) ने दिल्ली पुलिस को अलर्ट भेज आतंकी हमले से आगाह किया है. आईबी के अनुसार, आतंकी ग्रुप दिल्ली में IED से हमला कर सकते हैं. वहीं आतंकी वाहनों से टक्कर मारकर या फिर छोटे हथियारों से भी कई लोगों पर हमला कर सकते हैं. आईबी की मानें तो यह हमला भीड़भाड़ वाली जगहों पर किया जा सकता है. साथ ही अलर्ट में विदेशी सैलानियों को भी निशाना बनाए जाने की आशंका है. इसके लिए

यूपी एटीएस ने 5 राज्यों की पुलिस के साथ मिलकर आतंक के खिलाफ एक बड़े ऑपरेशन को अंजाम देते हुए 5 संदिग्ध आतंकियों को गिरफ्तार किया है. इनको मुंबई, लुधियाना और बिजनौर से पकड़ा गया है. इसके साथ ही 6 संदिग्धों को हिरासत में लेकर पूछताछ की जा रही है. खुरासान मॉड्यूल के ये आतंकी किसी बड़ी साजिश को अंजाम देने के फिराक में थे. बेल्जियम से मॉड्यूल का संचालन इस मॉड्यूल को शमिंदर सिंह उर्फ शेरी नियंत्रित करता है, जो अभी जर्मनी से इसका संचालन कर रहा है. ऐसा माना जाता है कि वह बेल्जियम में रह रहे जगदीश सिंह भूरा