पेइचिंग  डोकलाम में पीपल्स लिबरेशन आर्मी के अड़ियल रुख पर जापान के भारत को समर्थन देने पर चीन ने नाराजगी जाहिर की है। चीन ने कहा है कि भले ही जापान भारत को समर्थन देना चाहता है, लेकिन उसे भारत और चीन के बीच जारी तनाव पर टिप्पणी नहीं करनी चाहिए। बता दें कि जापान ने भारत का समर्थन करते हुए कहा था कि विवादित इलाके में पूर्व की स्थिति को बदलने की कोशिश नहीं की जानी चाहिए। जापान ने कहा कि इस मामले में बल का इस्तेमाल न करके बातचीत से मामला सुलझाया जाना चाहिए। चीनी विदेश मंत्रालय की प्रवक्ता ने

भारत और चीन के बीच सिक्किम बॉर्डर पर छिड़ा विवाद थम नहीं रहा है. बॉर्डर पर अड़ियल रवैया अपनाने वाले चीन ने इसका ठीकरा खुद भारत ही फोड़ दिया है. चीन विदेश मंत्रालय का कहना है कि भारत की ओर से बॉर्डर पर उठाए जा रहे कदम किसी विश्वासघात से कम नहीं है. गौरतलब है कि रक्षा मंत्री अरुण जेटली ने कहा था कि अब 1962 का भारत नहीं है. इस पर चीनी विदेश मंत्रालय ने कहा कि 1962 वाला चीन भी नहीं है. दरअसल, सिक्किम से लगती सीमा पर असल विवाद की जड़ है डोकुला का वो चौराहा, जो भारत-चीन और भूटान को एक साथ