पंजाब में किसानों की खुदकुशी का सिलसिला बदस्तूर जारी है। ताजा मामला मोगा से सामने आया है। यहां के बधनी कलां कस्बा के लोपों गांव में कर्ज से परेशान किसान ने खुदकुशी कर ली। जानकारी के मुताबिक, किसान पर बीस लाख रुपए का कर्ज था जिससे वो काफी दिन से मानसिक तनाव में था और आखिरकार उसने फांसी लगाकर अपनी जान दे दी।  मृतक किसान आठ एकड़ जमीन पर खेती करता था।

पंजाब में किसानों की खुदकुशी के मामले थमने का नाम नहीं ले रहे है. पंजाब में एक और किसान की आत्महत्या का मामला सामने आया है. तरनतारन के वैरोवाल गांव में कर्ज से परेशान किसान ने खुदकुशी कर ली. बताया जा रहा है कि किसान पर 19 लाख कर्ज था. किसान का नाम सतनाम सिंह है.

कर्ज के बोझ से परेशान पंजाब के किसानों की खुदकुशी का सिलसिला थमने का नाम नहीं ले रहा है. रामपुरा फुल के पास झंढूके गांव में कर्ज से परेशान सुरजीत सिंह नाम के किसान ने जहर खाकर खुदकुशी कर ली. सुरजीत सिंह पर करीब आठ लाख का कर्ज था.जिसे वो चुका नहीं पा रहा था, जिसकी वजह से किसान काफी परेशान था.    

पंजाब में किसानों की खुदकुशी का सिलसिला थमने का नाम नहीं ले रहा है। ताजा मामला श्री फतेहगढ़ साहिब के भटेड़ी गांव में सामने आया, जहां कर्ज से परेशान जगविंदर सिंह नाम के किसान और उसके खेत में काम करने वाले मजदूर दारा सिंह ने ने जहरीला पदार्थ निगल कर जान दे दी। बताया जा रहा है कि किसान और मजदूर दोनों ही कर्ज से परेशान थे इसलिए उन्होंने ये कदम उठाया। परिवारवालों ने बताया कि जगविंदर सिंह पर बैंक और आढ़तियों का करीब पांच लाख रुपए का कर्ज था, जिससे वो परेशान चल रहा था। उधर, दारा सिंह ने

फिरोजपुर के कस्बा जीरा में झूठे आरोपों से आहत होकर एक किसान के खुदकुशी करने का मामला सामने आया है . बताया जा रहा है की सहवाला गांव के बासठ साल के किसान सुखविंदर सिंह को ब्लैकमेल करने के लिए उसी के दोस्त ने एक महिला के जरिए बलात्कार की झूठी शिकायत पुलिस को दी थी . इसके बाद पंचायत में बैठक कर शिकायत वापिस लेने के लिए दस दस लाख रुपये देने का दबाव डाला गया जिस से परेशान होकर किसान सुखविंदर सिंह ने खुदकुशी कर ली. पुलिस ने ब्लैकमेल कर खुदकुशी के लिए मजबूर किए जाने का मामला

पंजाब में किसानों की खुदकुशी का सिलसला जारी है। तलवंडी साबो के गामा बागा के रहने वाले अमरजीद सिंह (65) ने कीटनाशक पीकर आत्महत्या कर ली। किसान के ऊपर 3 लाख रुपए का कर्ज था। किसान के साथ उसकी विधवा बेटी और और उसके दो बच्चों भी रहते थे, जिसका बोझ भी किसान पर था। लबें समय से किसान आर्थिक तंगी से परेशान था, जिसके बाद आखिर में किसान ने जिंदगी से हार मान ली और कीटनाशक पीकर अपनी जान दे दी। किसान के परिवार की मांग है कि उनको आर्थिक मुवावजा दिया साथ ही परिवार के एक सदस्य को नौकरी

पंजाब से एक दिन में पांच किसानों की खुदकुशी का मामला सामने आया है। बठिंडा, खन्ना, श्री मुक्तसर साहिब और बटाला में किसानों ने कर्ज से परेशान होकर खुदकुशी कर ली। बठिंडा के तियोना गांव में कर्ज से परेशान किसान ने खुदकुशी कर ली। बताया जा रहा है कि किसान पर करीब सात लाख रुपए का कर्ज था, जिस वजह से किसान  काफी लंबे वक्त से परेशान चल रहा था। आखिरकार किसान ने ट्रेन के आगे कुदकर खुदकुशी कर ली। दूसरा मामला खन्ना से सामने आया है, यहां 28 साल के किसान कुलदीप सिंह ने तीन लाख रुपए के कर्ज

बठिंडा में एक किसान ने कर्जे तथा फसल खराब होने के चलते जहर खाकर जान दे दी। जानकारी के अनुसार तलवंडी साबो के गांव मिर्जिया में किसान चंद सिंह ने 8 लाख कर्जे के बोझ तथा फसल पर सफेद मक्खी के हमले से दुखी होकर जहर खाकर जान दे दी।

रामपुराफूल में नौ अगस्त को हुई किसान टेक सिंह खुदकुशी मामला गरमाता जा रहा है। किसानों ने आरोपी आढ़ती सुरेश कुमार की गिरफ्तारी की मांग की है। इसी को लेकर किसान यूनियन ने प्रशासन के खिलाफ जेठूके गांव के पास धरना दिया और चंडीगढ़-बठिंडा मुख्य मार्ग पर जाम लगा दिया। इस दौरान किसानों ने आरोपी आढ़तिए की सुरेश कुमार पर दर्ज मामला रद्द करने की मांग की। और बठिंडा-चंडीगढ़ रोड जाम कर दिया। आढ़तियों ने प्रशासन को पर्चा रद्द ना करने पर आंदोलन तेज करने की चेतावनी दी है।  

पंजाब में एक और किसान की खुदकुशी का मामला सामने आया है। फरीदकोट के गुरुसर गांव में रहने वाले हरदीप सिंह ने छह लाख रुपए के कर्ज से परेशान होकर अपनी जान दे दी। जानकारी के मुताबिक किसान ने बैंक, सोसाइटी और आढ़ती से कर्ज लिया हुआ था।