नेशनल कांफ्रेंस के प्रमुख फारुक अब्दुल्ला ने बुधवार को एक बार फिर विवादास्पद बयान दे दिया है. उन्होंने कहा कि पाकिस्तान ने चूड़ियां नहीं पहन रखी हैं और उसके पास भी परमाणु बम है, वह भारत को जम्मू-कश्मीर के अपने कब्जे वाले हिस्से पर नियंत्रण नहीं करने देगा. फारुक अब्दुल्ला ने कहा, ‘‘आज, वे (भारत) दावा करते हैं कि ये हमारा है . तो इसे (पीओके) हासिल कर लीजिए, हम भी कह रहे हैं कि कृपया इसे (पाकिस्तान से) हासिल कर लीजिए. हम भी देखेंगे. वे (पाकिस्तान) इतने कमजोर नहीं हैं और उन्होंने कोई चूड़ियां नहीं पहन रखी हैं. उनके पास

जम्मू-कश्मीर के पूर्व मुख्यमंत्री फारुक अब्दुल्ला ने एक बार फिर विवादित और शर्मनाक बयान दिया है. फारूक अब्दुल्ला ने शनिवार कहा कि स्वतंत्र कश्मीर की बात ‘गलत’ है क्योंकि घाटी चारों ओर से तीन परमाणु शक्तियों - चीन, पाकिस्तान और भारत से घिरी है. अब्दुल्ला ने यह दावा भी किया कि PoK पाकिस्तान का है और यह चीज नहीं बदलेगी, चाहे भारत और पाकिस्तान एक दूसरे के खिलाफ कितने ही युद्ध क्यों ना लड़ लें. गौरतलब है कि एक दिन पहले ही पाकिस्तान के प्रधानमंत्री शाहिद खाकान अब्बासी ने एक स्वतंत्र कश्मीर के विचार को खारिज करते हुए कहा था कि

जम्मू-कश्मीर के पूर्व मुख्यमंत्री फारुख अब्दुल्ला ने जम्मू-कश्मीर की समस्या पर बड़ा बयान दिया है. शुक्रवार को उन्होंने कहा कि कश्मीर के मुद्दे पर भारत को अमेरिका और चीन की मदद स्वीकार कर लेनी चाहिए. उन्होंने कहा कि हम लोग चीन और पाकिस्तान से युद्ध नहीं कर सकते हैं, क्योंकि हमारी तरह उनके पास भी एटम बम हैं. इसलिए इस मुद्दे को बातचीत से ही सुलझाना चाहिए. अब्दुल्ला ने कहा कि दोस्तों का इस्तेमाल बातचीत करने के लिए, मुद्दे को हल करने के लिए कीजिए. अब्दुल्ला ने कहा कि कभी-कभी बैल को सींग से पकड़ना होता है, कभी ऐसा करना पड़ता

श्रीनगर जम्‍मू-कश्‍मीर की श्रीनगर लोकसभा उपचुनाव में नेशनल कांफ्रेंस के नेता फारूख अब्‍दुल्‍ला को जीत मिली है. उन्‍होंने अपने निकटतम प्रतिद्वंद्वी पीडीपी के नज़ीर अहमद को हराया. पिछले लोकसभा चुनाव में यह सीट पीडीपी नेता तारिक हमीद कर्रा ने जीती थी, लेकिन उन्होंने पार्टी से नाराज होकर इस्‍तीफा दे दिया था. इस कारण रिक्‍त हुई सीट पर यहां चुनाव हुए थे. जम्‍मू-कश्‍मीर के हालिया हालात की वजह से भी इस वक्‍त इस सीट पर सबकी निगाहें थीं. इस सीट पर अब्‍दुल्‍ला समेत नौ प्रत्‍याशी मैदान में थे. शेर-ए-कश्मीर इंटरनेशनल कन्वेंशन सेंटर में मतगणना हुई. उल्‍लेखनीय है कि सन 2014 के लोकसभा चुनाव में