जीएसटी काउंसिल ने करीब 200 चीजों की दरों में बदलाव और कटौती की थी, जिसके बाद उम्मीद जताई जा रही थी कि ये सब चीजें और सेवाएं सस्ती हो जाएंगी, लेकिन ऐसा नहीं हुआ. कई चीजों और सेवाओं के दाम बढ़ा दिए गए यानि ग्राहक का बिल जस का तस है. ऐसे में अब सरकार ने कड़ा रुख अपनाते हुए नेशनल एंटी प्रॉफिटिंग अथॉरिटी बनाने का ऐलान किया है. सरकार ने घोषणा की कि वो जीएसटी के तहत नेशनल एंटी प्रॉफिटिंग अथॉरिटी बनाएगी ताकि टैक्स में जो कटौती की गई है, उसका फायदा लोगों तक मिल सके. रेस्टोरेंट सहित करीब पौने

आज से जीएसटी की नई दरें लागू हो जाएंगी. गुवाहटी में हुई दो दिवसीय जीएसटी काउंसिल की बैठक में कुल 211 वस्तुओं की जीएसटी दरों में बदलाव किया गया था.  जीएसटी काउंसिल की बैठक में फैसला लिया गया था कि 178 वस्तुओं पर जीएसटी दर घटाकर 18 प्रतिशत कर दिया जाए. जीएसटी की नई दरें आज से लागू हो जाएंगी. माना जा रहा है कि इससे महंगाई मेंं काफी कमी आ जाएगी. 1. एसी-फ्रिज, वॉशिंग मशीन समेत 50 चीजें लगेगा 28 प्रतिशत जीएसटी  28 प्रतिशत वाले स्लैब में अब 228 वस्तुएं नहीं सिर्फ 50 वस्तुएं ही रह गई हैं. इसमें अब पान

हिमाचल प्रदेश जीएसटी के मामले में किसी तरह से घाटे में नहीं है,  प्रदेश को हर महीने चार सौ करोड़ रुपये का राजस्व प्राप्त होगा। वर्तमान में राज्य सरकार को करो से 189 करोड़ रुपए का मासिक राजस्व प्राप्त होता है। केंद्र सरकार से हर माह मिलने वाले इस राजस्व में साल-दर-साल 14 फीसद की वृद्धि निश्चित तौर पर प्राप्त होगी। पांच साल तक जीएसटी लागू होने के बाद किसी भी प्रकार के नुकसान की भरपाई केंद्र सरकार करेगी। दिल्ली में आयोजित जीएसटी काउंसिल की बैठक में अतिरिक्त मुख्य सचिव तरुण कपूर और आबकारी एवं कराधान विभाग में जीएसटी को विशेष रूप

जीएसटी में 28 फीसदी टैक्स के दायरे में आने वाले 177 सामानों पर टैक्स कम करके उन्हें 18 फीसदी टैक्स स्लैब के दायरे में लाया गया है। शुक्रवार को जीएसटी काउंसिल की मीटिंग के बाद जीएसटी परिषद के अहम सदस्य और बिहार के उप मुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी ने मीडिया से बात करते हुए इस बात की जानकारी दी। सरकार के इस फैसले के बाद अब केवल 50 आइटम ही 28 फीसदी टैक्स के दायरे में रह गए हैं। सुशील मोदी ने बताया कि पहले 62 आइटमों को सबसे उच्च कर वाले दायरे में रखा जाना था, लेकिन मीटिंग में काफी

पूर्व प्रधानमंत्री और जाने-मोन अर्थशास्त्री मनमोहन सिंह आज गुजरात में हैं और वो व्यापारियों को संबोधित कर रहे हैं. उन्होंने कहा कि नोटबंदी हमारे देश और अर्थव्यवस्था के लिए ब्लैक-डे था. यही नहीं 8 नवंबर हमारे प्रजातंत्र में काले दिन के रूप में ही जाना जाएगा. उन्होंने कहा कि कल 8 नवंबर को काला दिवस का एक साल पूरा होने जा रहा है. विश्व के किसी भी देश में करेंसी को लेकर इस तरह का कदम नहीं उठाया गया है जिसमें 86 फीसदी नोट बाजार से खत्म हो गए हों. अगर कैश लेन-देन को खत्म ही करना है तो उसके लिए कई और कदम उठाए

जीएसटी काउंसिल इस हफ्ते होने वाली बैठक में रोजमर्रा की कुछ वस्तुओं पर कर की दर घटाने पर विचार कर सकती है। बैठक में हाथ से बने फर्नीचर, प्लास्टिक उत्पादों और शैंपू जैसी वस्तुओं पर जीएसटी दरों में कटौती की घोषणा की उम्मीद है। वित्त मंत्री अरुण जेटली की अगुआई वाली जीएसटी काउंसिल की बैठक 10 नवंबर को होनी है। अधिकारियों ने कहा कि कुछ सामान्य इस्तेमाल की वस्तुओं पर 28 फीसद की जीएसटी दर को कम करने पर विचार होगा। छोटे एवं मझोले उपक्रमों को राहत के लिए काउंसिल उन क्षेत्रों में दरों को तर्कसंगत बनाने पर विचार करेगी, जहां जीएसटी

प्रवासी भारतीय केंद्र में इंडिया बिजनेस रिफॉर्म पर आयोजित सम्मेलन में पीएम नरेंद्र मोदी ने इज ऑफ डूइंग बिजनेस में भारत की रैकिंग सुधार का जिक्र करते हुए आलोचकों पर निशाना साधा. पीएम मोदी ने कहा कि इस समय उत्सव का माहौल है. विश्व बैंक ने भारत के आर्थ‍िक क्षेत्रों में हुए सुधार को सराहा है. ईज ऑफ डूइंग बिजनेस से लोगों का जीवन भी आसान बन रहा है. पीएम नरेंद्र मोदी इंडिया बिजनेस रिफॉर्म के मेक इन इंडिया सेशन को संबोधित कर रहे हैं. पीएम नरेंद्र मोदी ने इस दौरान विपक्ष पर वार करते हुए कहा कि कुछ लोगों को

गुजरात विधानसभा चुनाव से ठीक पहले सरकार ने व्यापारियों को बड़ी राहत दी है। केंद्र ने अगस्त और सितंबर में जीएसटी के शुरुआती रिटर्न फाइल करने में विलंब होने पर कारोबारियों पर लगी पेनल्टी को माफ करने का ऐलान किया है। वित्त मंत्री अरुण जेटली ने एक ट्वीट कर इस निर्णय की घोषणा की। जेटली ने कहा कि करदाताओं की मदद के लिए सरकार ने अगस्त और सितंबर के लिए जीएसटीआर-3बी विलंब से फाइल करने पर लगी पेनाल्टी को माफ करने का फैसला किया है। जिन करदाताओं ने लेट फी का भुगतान कर दिया है उसे उनके खाते में वापस कर

इस साल नोटबंदी और जीएसटी की वजह से शादियों का बजट गड़बड़ा सकता है. शादी करना 10 से 15 फीसदी महंगा हो सकता है. आपको फोटोग्राफी, वेन्‍यू, ज्‍वैलरी, कपड़ों समेत अन्‍य चीजों के लिए पहले के मुकाबले ज्‍यादा कीमत चुकानी पड़ेगी. इंडस्‍ट्री बॉडी एसोचैम ने जीएसटी और नोटबंदी की वजह से बदली कीमतों का अध्‍ययन करने के बाद यह अनुमान लगाया है. एसोचैम ने कहा कि नोटबंदी और जीएसटी लागू होने से कई चीजों की कीमतें बदली हैं. कीमतों में इस बदलाव का सीधा असर आने वाले वेडिंग सीजन पर पड़ेगा. एसोचैम के मुताबिक इस वेडिंग सीजन आपको ज्‍वैलरी और कपड़े

वाशिंगटन केंद्रीय वित्त मंत्री अरुण जेटली ने शनिवार को कहा कि दुनिया के सभी देशों ने ढांचागत सुधारों जैसे नोटबंदी और गुड्स एंड सर्विसेज टैक्स (जीएसटी) जैसे सुधारों के लिए भारत की प्रशंसा की है। वित्त मंत्री अभी अंतरराष्ट्रीय मुद्रा कोष (आइएमएफ) व वर्ल्‍ड बैंक की वार्षिक मीटिंग में हिस्‍सा लेने अमेरिका गए हैं। इसके साथ वित्त मंत्री अरुण जेटली ने नोटबंदी और जीएसटी पर सरकार को घेरने की कोशिश कर रहे विपक्ष पर हमला बोल दिया है। अमेरिकी दौरे पर गए वित्त मंत्री ने कहा है कि गुजरात विधानसभा चुनावों के रिजल्ट आने दीजिए, पता चल जाएगा लोग किसके साथ हैं।