सरकार ने वायरलेस या मोबाइल दूरसंचार क्षेत्र में 5जी तकनीक यानी पांचवीं पीढ़ी की टेलिकॉम तकनीक लाने के लिए कमर कस ली है। इस तकनीक को 2020 तक लाने का रोडमैप तैयार करने के लिए एक उच्च स्तरीय समिति का गठन किया गया है। संचार मंत्री मनोज सिन्हा ने संवाददाता सम्मेलन में इसका एलान किया। उन्होंने कहा, ‘2जी, 3जी में हम पिछड़ गए थे। लेकिन 5जी में हम बाकी दुनिया के साथ ही नहीं बल्कि आगे रहना चाहते हैं। इसके लिए संचार, इलेक्ट्रॉनिक्स एवं सूचना प्रौद्योगिकी तथा विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी मंत्रलय मिलकर 500 करोड़ रुपये की रकम खर्च करेंगे।’ सिन्हा के मुताबिक

राम रहीम को सजा मिलने के बाद कुछ जिलों को छोड़ हरियाणा में आज दोपहर तक इंटरनेट सेवा बहाल कर दी जाएगी। गृह सचिव राम निवास ने जानकारी देते हुए बताया कि सिरसा, फतेहाबाद, जींद, हिसार अौर कैथल को छोड़ कर सारे हरियाणा में आज दोपहर तक इंटरनेट सेवा बहाल कर जाएगी। आपको बता दें कि 24 अगस्त से ही पूरे हरियाणा में इंटरनेट सेवा बंद थी। हिसार कोर्ट में आज रामपाल पर दर्ज केस पर फैसला आना है, जिसके चलते हिसार में सुरक्षा के मद्देनजर ट्रेन-बस अौर इंटरनेट सेवा बंद रहेगी।

हिमाचल प्रदेश में कंप्यूटर या लैपटॉप पर इंटरनेट सेवाओं का इस्तेमाल बेहद कम हो रहा है। प्रदेश में कुल 8.4 प्रतिशत घरों में कंप्यूटर या लैपटॉप हैं, जिसमें से महज 2.8 प्रतिशत ही इंटरनेट इस्तेमाल करते हैं। यह अनुपात राष्ट्रीय औसत से भी कम है। मोबाइल फोन इस्तेमाल में हिमाचल प्रदेश में उपभोक्ता संख्या राष्ट्रीय औसत से कहीं अधिक है। हैरानी की बात यह है कि लैंडलाइन फोन का जहां देश में चलन तेजी से घटा है, वहीं हिमाचल में लैंडलाइन इस्तेमाल राष्ट्रीय औसत से लगभग दोगुना है। सतत विकास के लक्ष्यों के लिए प्रदेश योजना विभाग की जारी रिपोर्ट में