रविवार को ईरान-इराक बॉर्डर के पास 7.2 तीव्रता वाला भूकंप आया है। स्थानीय मीडिया की ओर से दी गई जानकारी के मुताबिक भूकंप में अब तक करीब 150 से ज्यादा लोगों की मौत हो चुकी है। भूकंप की वजह से दोनों देशों में काफी नुकसान हुआ है। बताया जा रहा है कि भूकंप में करीब 300 से ज्यादा लोगों के घायल हैं। भूकंप रविवार रात 9.18 मिनट पर आया जिसकी गहराई 15 मील थी। यूएस जियोलॉजिकल सर्वे का कहना है कि भूकंप का केंद्र इराक़ी कस्बे हलब्जा से दक्षिण-पश्चिम में 32 किलोमीटर दूर स्थित था। ईरानी टीवी मीडिया के मुताबिक,

बगदाद इराक सेना के विमानों ने इस्लामिक स्टेट (आईएस) के ठिकानों को निशाना बनाकर दर्जनभर हवाई हमले किए. इन हमलों में आईएस के कई ठिकाने नष्ट हो गए और लगभग 306 आतंकवादी भी मारे गए. खुफिया मीडिया कार्यालय की ओर से जारी बयान के मुताबिक, खुफिया रिपोर्टों के आधार पर 11 से 16 सितंबर के बीच आईएस के ठिकानों पर 42 हवाई हमले किए गए, जबकि पूर्वी सीरिया के मयादीन क्षेत्र में आईएस की चौकियों पर कुल छह हवाई हमले किए गए. समाचार एजेंसी सिन्हुआ ने बयान के हवाले से बताया कि अकाशत क्षेत्र में आईएस के 29 ठिकानों पर बमबारी की

इराक में लापता 39  भारतीयों के परिवारों ने केंद्र सरकार पर गुमराह करने का आरोप लगाया है। परिजनों का कहना है कि संसद में विदेश मंत्री सुषमा स्वराज के बयान को सुनने के बाद इराक में लापता हुए लोगों के बारे में कोई सुराग मिलने की उनकी उम्मीदें अब टूट गयी हैं। परिजनों का कहना है कि सरकार ने पिछले तीन साल से हमे अंधेरे में रखा। विदेश मंत्री के बयान के बाद साफ हो गया है कि सरकार के पास लापता हुए लोगों के बारे में कोई ठोस सूचना नहीं है।

अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने इराक के मोसुल शहर को आतंकवादी संगठन इस्लामिक स्टेट से मुक्त कराने की प्रशंसा की और जीत के लिए प्रधानमंत्री हैदर अल अब्दी को बधाई दी. डोनाल्ड ट्रंप ने एक बयान में कहा, अमेरिका और वैश्विक गठबंधन के सहयोग से इराकी सुरक्षा बलों ने मोसुल शहर को आईएस के शासन से मुक्त करा लिया है. उन्होंने कहा, हम प्रधानमंत्री हैदर अल-अब्दी, इराकी सुरक्षा बलों और सभी इराकी नागरिकों को आतंकवादियों पर जीत के लिए बधाई देते हैं. ये आतंकवादी सभी सभ्य लोगों के दुश्मन हैं. अमेरिकी राष्ट्रपति ने कहा, अमेरिका और वैश्विक गठबंधन इराकी सुरक्षाबलों और उन