हिसार में जाट धर्मशाला में जाट आरक्षण संघर्ष समिति की मीटिंग का आयोजन किया गया। इस बैठक में पिछले 26 अगस्त को कोर कमेटी मीटिंग में जो फैसले लिए गए उस पर विचार किया गया। इस मौके पर जाटों ने आरक्षण ना देने पर फिर से प्रदेश सरकार को आंदोलन की चेतावनी दी है। इसके अलावा जाट आरक्षण संघर्ष समिति शिक्षा को बढ़ावा देने के लिए जाट सेवा संघ बनाया है और संघ के जरिए से 26 नवंबर को रोहतक में आरक्षण स्थल पर दस एकड़ भूमि का पूजन किया जाएगा और जसिया के धरना स्थल के पास ये शिक्षण संस्थान

जाट आरक्षण संघर्ष समिति के राष्ट्रीय अध्यक्ष यशपाल मलिक झज्जर में आयोजित एक कार्यक्रम में बतौर मुख्यातिथि पहुंचे। इस मौके पर उन्होंने कहा कि सरकार ने उनकी ज्यादातर मांगों को मान लिया है और बाकी मांगों को भी जल्द ही मान लिया जाएगा। उन्होंने बताया कि अभी भी कुछ साथी जो जेल में बंद हैं, उनका मामला कोर्ट में विचाराधीन है। इस संबंध में भी सरकार ने भरोसा दिया है कि उन लोगों को बाहर निकालने के लिए कदम उठाए जा रहे हैं। मलिक ने कहा कि सरकार अभी तक नौकरी और मुआवजा देकर अपनी बात पर खरा उतरी है। आगे

अखिल भारतीय जाट आरक्षण संघर्ष समित के अध्यक्ष यशपाल मलिक ने कहा कि हरियाणा सरकार से समिति का जिन मांगों को लेकर समझौता हुआ था, उन पर सरकार की ओर से कार्रवाई धीमी गति से चल रही है। सरकार ने अगर चार जून तक समाज की मांगों को पूरा नहीं किया तो रोहतक में प्रदेश कार्यकारिणी बैठक में आंदोलन की रणनीति तैयार की जाएगी। मलिक दादरी की नई अनाजमंडी में कार्यकर्ता सम्मेलन को संबोधित कर रहे थे। मलिक ने कहा कि हमने लड़ाई खत्म नहीं की है, इस लिए एक मई से प्रदेश भर में जिला स्तर पर सम्मेलन आयोजित कर