केंद्रीय गृहमंत्री राजनाथ सिंह शनिवार को चार दिवसीय दौरे पर श्रीनगर पहुंच गए है. राजनाथ सिंह कश्मीर में महबूबा मुफ्ती से मुलाकात की. और श्रीनगर में प्रधानमंत्री पैकेज की समीक्षा बैठक की. राजनाथ चार दिवसीय दौरे के दौरान दो दिन घाटी में और दो दिन जम्मू में बिताएंगे। । इस दौरे के दौरान राजनाथ सिंह के साथ केंद्रीय गृह सचिव राजीव गाबा और अन्य वरिष्ठ अधिकारी भी मौजूद रहे. कश्मीर रवाना होने से पहले राजनाथ ने दिल्ली में मीडिया से बात करते हुए कहा था कि वह खुले दिमाग से कश्मीर दौरे पर जा रहे हैं। उन्होंने कहा कि वो हर उस व्यक्ति

जम्‍मू कश्‍मीर की मुख्‍यमंत्री महबूबा मुफ्ती ने संविधान के अनुच्छेद 35(A) में बदलाव के मुद्दे को उठाते हुए चेतावनी दी कि अगर इसमें बदलाव होता है तो कश्‍मीर में तिरंगे की सुरक्षा के लिए कोई आगे नहीं आएगा।   मुख्यमंत्री ने कहा कि जम्मू-कश्मीर का विशेष दर्जा समाप्त करना सरासर गलत होगा। अगर ऐसा हुआ तो तिरंगे को यहां थामने वाला कोई नहीं होगा। यहां के लोग विशेष प्रकृति के हैं। वह भारत में रहते हैं, क्योंकि यही एक देश है जहां हिंदू-मुस्लिम एक साथ प्रार्थना करते हैं। यहां भगवान की मूर्ति को मुस्लिम कलाकार अपने हाथों से तराशते हैं। उनका कहना

श्रीनगर जम्मू-कश्मीर की मुख्यमंत्री महबूबा मुफ्ती ने शनिवार को कहा कि घाटी में यदि अमेरिका दखल देगा तो यहां की हालत सीरिया जैसी हो जाएगी. महबूबा का यह बयान ऐसे समय आया है जब राज्य के पूर्व मुख्यमंत्री फारूक अब्दुल्ला ने कश्मीर विवाद का शांतिपूर्ण हल निकालने के लिए अमेरिका और चीन की मध्यस्थता स्वीकारने का सुझाव दिया है. महबूबा ने कहा कि कश्मीर विवाद को सुलझाने के लिए बाहरी शक्तियों की जरूरत नहीं है हम मिलकर समाधान सुलझा लेंगे.  महबूबा ने कहा, 'कश्मीर विवाद सुलझाने में यदि अमेरिका दखल देता है तो राज्य की हालत इराक और सीरिया जैसी हो जाएगी, कश्मीर समस्या सुलझाने में बाहरी देशों

जम्मू और कश्मीर के अनंतनाग में अमरानाथ यात्रियों पर हुए हमले के बाद मोदी सरकार और महबूबा सरकार गंभीर हो गई है। राज्य की मुख्यमंत्री महबूबा मुफ्ती  शनिवार को दिल्ली में केंद्रीय गृह मंत्री राजनाथ सिंह से मिलने के लिए पहुंच गई हैं। सूत्रों से मिली जानकारी के मुताबिक दोनों मिलकर घाटी में लगातार बढ़ रही हिंसक घटनाओं पर चर्चा की। राजनाथ से मुलाकात के बाद सीएम मुफ्ती ने कहा कि कश्मीर में तनाव के पीछे चीन का भी हाथ है। उन्होंने कहा कि कश्मीर में आतंकी बाहर से आ रहे हैं। इस बीच गहमंत्री राजनाथ सिंह की ओर से मिली मदद के लिए

जम्मू-कश्मीर की मुख्यमंत्री महबूबा मुफ्ती ने घाटी में हिंसा और अशांति के हालातों के बीच बातचीत की वकालत की. मुफ्ती ने जम्मू-कश्मीर विधानसभा में दिए एक बयान में कहा कि सीमा पर हमारे सैनिक मर रहे हैं. बंदूक और फौजी ताकतें किसी समस्या का हल नहीं हो सकता. बातचीत से ही मुद्दे सुलझाए जा सकते हैं. जम्मू-कश्मीर में लोकतंत्र का गला घोंटा गया, कश्मीर में आतंकवाद कांग्रेस और नेशनल कॉन्फ्रेंस की देन है. सेना हालात सामान्य नहीं कर सकती.  महबूबा ने कहा, 65 की जंग हुई, 71 की जंग हुई, क्या हासिल हुआ? जंग में दोनों तरफ के गरीब लोग ही मारे जाते हैं.

जम्मू-कश्मीर में महबूबा मुफ्ती सरकार ने पुलिस विभाग में भारी फेरबदल किया है. राज्य सरकार ने पुलिस विभाग के 99 अफसरों के ट्रांसफर का आदेश दिया है. 99 डिप्टी सुपरिटेंडेंट ऑफ पुलिस का ट्रांसफर किया गया है. दरअसल घाटी में पिछले कई महीनों से पुलिस और आम जनता के बीच संघर्ष जारी है. सरकार की तमाम कोशिशों के बावजूद हालात पर पूरी तरह से काबू नहीं पाया जा सका है, शायद इसी कड़ी में महबूबा सरकार ने पुलिस अधिकारियों के तबादले करके हालात को सामान्य करने का प्रयास किया है. घाटी में शांति बहाली को लेकर राज्य सरकार के साथ-साथ केंद्र सरकार

दिल्ली जम्मू-कश्मीर में जारी हिंसा और BJP-PDP के रिश्तों में आई तल्खी के बीच सूबे की सीएम महबूबा मुफ्ती ने सोमवार को पीएम नरेंद्र मोदी से मुलाकात की. करीब आधे घंटे तक चली इस मीटिंग में कश्मीर में पत्थरबाजी की बढ़ती घटनाओं के साथ ही राज्य में सत्तारूढ़ गठबंधन को बचाने पर भी बातचीत हुई. मोदी के बाद मुफ्ती ने गृह मंत्री राजनाथ सिंह से भी मुलाकात की. उन्होंने इस मुलाकात के बाद दो-तीन महीने में घाटी के हालात बदलने का भरोसा दिलाया. https://twitter.com/ANI_news/status/856402218634825728 पीएम के साथ बैठक के बाद मुफ्ती ने पत्रकारों के सवालों के जवाब देते हुए बताया कि कश्मीर में