कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी ने 10 जनपथ स्थित अपने आवास पर सोमवार शाम 4 बजे पार्टी के वरिष्ठ नेताओं की बैठक बुलाई है. राहुल गांधी के अध्यक्ष चुने जाने से पहले बुलाई गई इस बैठक को काफी महत्वपूर्ण माना जा रहा है. सूत्रों के मुताबिक, सोनिया गांधी इस बैठक में पार्टी के बड़े नेताओं से अध्यक्ष पद पर राहुल गांधी के चुनाव पर राय मशविरा करेंगी. इसके साथ ही यहां कांग्रेस वर्किंग कमेटी के बैठक की तारीख भी तय हो सकती है. बता दें कि अगले कुछ दिनों में कांग्रेस कार्यसमिति की बैठक होनी है. कांग्रेस में निर्णय लेने वाली इस सबसे

चीन में कम्युनिस्ट पार्टी ऑफ चाइना 18 अक्टूबर से अपनी 19वीं नेशनल कांग्रेस का आयोजन करने जा रही है. यह बैठक हर 5 साल बाद होती है. इसमें पार्टी को नया नेता और देश को नया मिलता है. शी जिनपिंग का एक बार फिर प्रेसिडेंट बनना करीब-करीब तय है. इस बार सीपीसी में जिनपिंग के मददगार बढ़ गए हैं. कहा जा रहा है कि ऐसे में पार्टी, कॉन्स्टिट्यूशन में सुधार करके ‘शी जिनपिंग थॉट’ को शामिल करेगी. अगर ऐसा होता है तो जिनपिंग, माओ और जियाओपिंग जैसे नेताओं के लेवल पर पहुंच जाएंगे. चीन में अभी मार्क्सिज्म-लेनिनिज्म, माओ थॉट, देंग

रामनाथ कोविन्द ने भारत के 14वें राष्ट्रपति के रूप में शपथ ली, चीफ जस्टिस ने रामनाथ कोविंद को राष्ट्रपति पद की शपथ दिलाई. संसद भवन के सेंट्रल हॉल में आयोजित इस शपथ ग्रहण समारोह में कई गणमान्य लोग मौजूद रहे. शपथ ग्रहण से पहले राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने राजघाट जाकर महात्मा गांधी को श्रद्धांजलि दी. इस दौरान उनकी पत्नी भी मौजूद थीं. नव-निर्वाचित राष्ट्रपति रामनाथ कोविंग के शपथ लेने के बाद उन्हें 21 तोपों की सलामी दी गई. इस समारोह में राज्य सभा के सभापति, प्रधानमंत्री, भारत के मुख्य न्यायाधीश, लोक सभा अध्यक्ष, मंत्री परिषद के सदस्य, राज्यपालगण, मुख्यमंत्रीगण, राजनयिक मिशनों

शिमला में जिस राष्ट्रपति निवास को देखने की हसरत रामनाथ कोविंद ने 3 हफ्ते पहले जताई थी, एक महीने बाद वह उन्हीं का हो सकता है. जी हां आपको बता दें कि एनडीए की ओर राष्ट्रपति प्रत्याशी घोषित किए गए राम नाथ कोविंद ने शिमला दौरे के दौरान बीते 29 मई को छराबड़ा स्थित राष्ट्रपति निवास रिट्रीट को देखने की इच्छा जाहिर की थी. लेकिन अनुमति न होने के कारण उन्हें रिट्रीट में जाने नहीं दिया गया. कर्मचारियों ने अनुमति न होने का हवाला देकर गेट पर रोक दिया था. दिल्ली में राय सीना हिल्स के अलावा शिमला में भी राष्ट्रपति

कार्यकाल खत्म होने से लगभग एक महीने पहले राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी ने दो और क्षमा याचिकाओं को खारिज कर दिया है. इसके साथ ही राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी द्वारा खारिज की गई क्षमा याचिकाओं की कुल संख्या 30 पहुंच गई है. राष्ट्रपति ने इन याचिकाओं को मई के आखिरी हफ्ते में खारिज किया है. खारिज की गई याचिकाओं में पहला केस 2012 का है, जिसमें चार साल की एक बच्ची का रेप और फिर उसकी हत्या कर दी गई थी. मामला इंदौर का है जिसमें तीन लोगों को दोषी पाया गया था. वहीं दूसरा केस पुणे का है, जिसमें कैब ड्राइवर पर अपने साथी के साथ मिलकर युवती

राष्ट्रपति चुनाव के लिए सरगर्मी बढ़ गई है. सत्ता पक्ष और विपक्ष अपनी रणनीति बनाने में जुटे हुए हैं. बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह ने राष्ट्रपति चुनाव के उम्मीदवार चुनने के लिए एक तीन सदस्यीय कमेटी का गठन किया है. पार्टी के वरिष्ठ नेता और केंद्रीय गृह मंत्री राजनाथ सिंह, वेंकैया नायडू और वित्त मंत्री अरुण जेटली इस कमेटी के सदस्य होंगे. यह कमेटी राष्ट्रपति उम्मीदवार के लिए एनडीए के घटक दलों से बातचीत करेगी. गौरतलब है कि राष्ट्रपति प्रणव मुखर्जी का पांच वर्ष का कार्यकाल 24 जुलाई को खत्म हो रहा है. राष्ट्रपति पद के उम्मीदवार पर अगर सर्वसम्मति नहीं बनेगी तो

उत्तर कोरियाई शरणार्थी के बेटे और सुधारवादी नेता मून सत्ता की कमान संभालने के बाद सबसे पहले उत्तर कोरिया के तानाशाह किम जोंग उन के साथ बातचीत शुरू करेंगे. बता दें कि पूर्व राष्ट्रपति पार्क गून हे ने उत्तर कोरिया से सारे रिश्ते खत्म कर लिए थे. साथ ही उत्तर कोरिया पर पूरी तरह से प्रतिबंध लगा दिया था. मार्च में पार्क गून-हे को भ्रष्टाचार के आरोप में बर्खास्त कर दिया गया था, जिसके बाद मून जाए-इन की जीत सामने आई है. यह जीत कोरियाई प्रायद्वीप में अमेरिकी दखल को खत्म करने की दिशा में अहम मानी जा रही है.

नई दिल्ली, स्पोर्ट्स डेस्क हरियाणा में खेलों का मान और बढ़ गया है. इनेलो नेता अभय चौटाला और सुरेश कलमाडी अब आईओए यानी इंडियन ओलंपिक एसोशियशन के नए आजीवन अध्यक्ष होंगे.. ये फैसला चेन्नई में आईओए की सालाना बैठक में सर्वसम्मति से लिया गया है. चौटाला दिसंबर 2012 से फरवरी 2014 तक आईओए अध्यक्ष रहे. उस समय अंतरराष्ट्रीय ओलंपिक समिति ने चुनावों में आईओए को निलंबित कर रखा था क्योंकि उसने चुनावों में ऐसे उम्मीद्वार उतारे थे जिनके खिलाफ आरोप पत्र दाखिल थे. आईओए अध्यक्ष के रूप में उनके चुनाव को आईओसी ने रद्द कर दिया था. अभय चौटाला इंडियन ओलंपिक एसोशियशन