फिल्म पद्मावती का विरोध हरियाणा में भी आए दिन और तेज होता जा रहा है। बीते दिनों जहां कैबिनेट मंत्री अनिल विज ने इस पर टिप्पणी की थी, वहीं रविवार को एक और कैबिनेट मंत्री इसके विरोध में उतर आए। फरीदाबाद के विधायक एवं मंत्री विपुल गोयल ने केंद्रीय सूचना एवं प्रसारण मंत्री स्मृति ईरानी को चिट्ठी लिख इस फिल्म का रिलीज नहीं होने देने की मांग की है। उन्होंने फिल्म के डायरेक्टर संजय लीला भंसाली को भी चिट्ठी लिख आपत्ति दर्ज कराई है। बता दे कि संजय लीला भंसाली की फिल्म पद्मावती 1 दिसंबर को रिलीज हो रही है। इससे

कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी का दो सप्ताह के अमेरिकी दौरे पर हैं. अपने पहले कार्यक्रम के तहत राहुल गांधी ने आज अमेरिका के बार्कले स्थित यूनिवर्सिटी ऑफ कैलिर्फोनिया में छात्रों को संबोधित किया.इस दौरान राहुल ने केंद्र सरकार और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर जमकर हमला बोला. राहुल ने कश्मीर में फैली अशांति और नोटबंदी से गिरी विकास दर के लिए नरेंद्र मोदी सरकार को जिम्मेदार ठहराया है. साथ ही राहुल ने कहा कि सत्ता में आने पर किसी भी दल को अहंकार नहीं होना चाहिए. उन्होंने माना कि 2012 में कांग्रेस पार्टी में अहंकार घर कर गया था. अहंकार से

भारतीय जनता पार्टी के अध्यक्ष अमित शाह ने शुक्रवार को राज्यसभा सदस्य के तौर पर शपथ ली. अमित शाह पहली बार राज्यसभा सांसद बने हैं. सभापति वेंकैया नायडू अमित शाह को शपथ दिलाई. अमित शाह के साथ स्मृति ईरानी ने भी राज्यसभा सदस्य के तौर पर शपथ ली. ईरानी ने संस्कृत में शपथ ली. शाह ने इस महीने की शुरुआत में राज्यसभा चुनाव जीता था. शाह इससे पहले गुजरात विधानसभा के पांच बार विधायक रहे हैं. आपको बता दें कि 8 अगस्त को गुजरात राज्यसभा चुनाव के लिए वोट डाले गए थे. वोटिंग के बाद कांग्रेस ने रिटर्निंग ऑफिसर से अपनी

हाल ही में केंद्रीय मंत्री स्मृति इरानी ने अपने इंस्टाग्राम एकाउंट पर अपनी ही एक पुरानी तस्वीर शेयर की थी. उनकी ये तस्वीर उस समय की है जब स्मृति इरानी, एकता कपूर के सफल टीवी सीरियल क्यूंकि

कपड़ा मंत्री स्मृति ईरानी के लिए उनकी डिग्री का मामला और बढ़ता ही जा रहा है. आपको बता दें कि फर्जी डिग्री का यह मुद्दा फिर से दिल्ली हाई कोर्ट में पहुंच गया है और अब इसकी सुनवाई 13 सितंबर को होगी. लोकसभा चुनावों के दौरान ईरानी ने शपथ पत्र में अपनी शिक्षा के बारे में गलत जानकारी दी थी. इस मुद्दे पर पहले भी बवाल हो चुका है. अब फिर से दिल्ली हाई कोर्ट में याचिका दायर किया गया था. याचिका में कहा गया है कि केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी ने अपने हलफनामे में अपनी शिक्षा के बारे में गलत