पंजाब में  गुरदासपुर लोकसभा उपचुनाव में कांग्रेस उम्मीदवार सुनील जाखड़ को रिकॉर्ड जीत मिली है, जो बीजेपी के लिए बड़ा झटका है.  वहीं आम आदमी पार्टी के उम्मीदवार मेजर जनरल (रिटायर्ड)  सुरेश खजूरिया की जमानत जब्त हो गई. सुनील जाखड़ 1,93,219 वोटों से जीते. सवेरे 8 बजे से वोटों की गिनती चल रही थी. 11 अक्टूबर को मतदान हुआ था. जीत के साथ ही कांग्रेस में जश्न शुरू हो गया. वैसे शुरुआती रुझान से ही कांग्रेस उम्मीदवार सुनील जाखड़ आगे चल रहे थे. अभिनेता विनोद खन्ना इस सीट से बीजेपी के सांसद थे और उनके निधन के बाद यहां उपचुनाव कराया गया. इस

गुरदासपुर उपचुनाव के लिए नामांकन के आखिरी दिन कांग्रेस और बीजेपी के उम्मीदवारों ने अपना नामांकन दाखिल किया. सबसे पहले कांग्रेस उम्मीदवार सुनील जाखड़ अपने समर्थकों के साथ नामांकन भरने पहुंचे. उनके साथ पंजाब के सीएम कैप्टन अमरिंदर सिंह और कैबिनेट मंत्री नवजोत सिंह सिद्धू भी मौजूद रहे.इस मौके पर सुनील जाखड़ ने कहा कि कांग्रेस ने हमेशा जनता के लिए काम किया है और आगे भी करती रहेगी.वहीं, बीजेपी उम्मीदवार ,स्वर्ण सलारिया ने भी समर्थकों के साथ अपना नामांकन पत्र दाखिल कर दिया.

गुरदासपुर लोकसभा उपचुनाव के लिए आम आदमी पार्टी के बाद कांग्रेस ने भी अपने उम्मीदवार का ऐलान कर दिया है। कांग्रेस ने प्रदेश अध्यक्ष सुनील जाखड़ को मैदान में उतारा है। कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी की सहमति के बाद बुधवार को जाखड़ के नाम का एलान कर दिया गया। जानकारी के मुताबिक गुरदासपुर के ज्यादातर विधायक जाखड़ के नाम पर सहमत थे। प्रताप बाजवा आपनी पत्नी चरनजीत तौर बाजवा के लिए टिकट मांग रहे थे, लेकिन जाखड़ खुद पहले तैयार नहीं थे। इससे यह आशंका बन गई थी कि अगर किसी एक स्थानीय को टिकट दिया जाता तो बाकी उसकी मुखालफत

चंडीगढ़/जालंधर 10 साल बाद पंजाब में सरकार बनाने वाली कांग्रेस गुरदासपुर उपचुनाव को लेकर कोई रिस्क लेने को तैयार नहीं है। इसके लिए पार्टी कई स्तर पर फीडबैक लेने में जुटी है। इस बीच सोमवार को मुख्यमंत्री कैप्टन अमरेंद्र सिंह, प्रदेश प्रभारी आशा कुमारी ने पार्टी अध्यक्ष सोनिया गांधी से मुलाकात की। इससे पहले तीनों के बीच एक बैठक हुई, जिसमें पंजाब के राजनीतिक हालात, विपक्षी दलों के संभावित उम्मीदवारों पर चर्चा हुई। बैठक में आशा कुमारी ने अपने स्तर पर जुटाई गई पार्टी नेताओं व विधायकों की फीडबैक पर कैप्टन के साथ चर्चा की। महत्वपूर्ण बात यह है कि कैप्टन ने ज्यादातर

चंडीगढ़ के पंजाब भवन में पंजाब कांग्रेस प्रधान सुनील जखड़ ने प्रेस कॉन्फ्रेस की। इस दौरान उन्होंने विधानसभा में हुई घटना को दुर्भाग्यपूर्ण बताया, साथ ही विपक्ष के रवैये पर सवाल उठाए। उन्होंने कहा कि विधानसभा की घटना पर उन्हें अफसोस है। विपक्षी पार्टियों ने वे मुद्दें नहीं रखे, जिन्हें लेकर वो तीन महीने से सरकार पर हमलावर हो रही थी, लेकिन विपक्षी पार्टियों ने सदन में एक अलग ही माहौल बनाया। उन्होंने सुखबीर सिंह बादल के स्पीकर को लेकर दिए बयान को भी दुर्भाग्यपूर्ण करार दिया।

कांग्रेस ने पंजाब में किसानों के कर्ज माफी के तौर-तरीके को पूरे देश में अपनाए जाने की वकालत की है. उसका कहना है कि जब कर्ज में डूबी पंजाब की कैप्टन अमरेंद्र सिंह सरकार हर वर्ग के किसानों का कर्ज माफ कर सकती है तो देश के बाकी राज्यों में इस पैटर्न को क्यों नहीं अपनाया जा सकता. डीजल-पैट्रोल से होने वाली आमदनी से ऋण माफी की भरपाई हो सकती है. पंजाब कांग्रेस के अध्यक्ष सुनील जाखड़ ने मंगलवार को यहां पत्रकारों से चर्चा करते हुए बताया कि मुख्यमंत्री कैप्टन अमरेंद्र सिंह ने राज्य के 13 लाख किसानों के कर्ज माफी

पंजाब कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष सुनील जाखड़ का कहना है कि प्रदेश सरकार किसानों की कर्जमाफी, युवाओं के रोजगार और सूबे की खुशहाली के लिए वचनबद्ध है। इन मुद्दों पर सीएम कैप्टन अमरिंदर सिंह 19 जून को पंजाब विधानसभा में बयान देंगे। इसी दिन सरकार किसानों के लिए राहत पैकेज का एलान कर सकती है। जाखड़ शनिवार को लुधियाना में पत्रकारों को संबोधित कर रहे थे। उन्होंने कहा कि शिरोमणि अकाली दल चार दिन पहेल किसानों और अन्य मुद्दों को लेकर धरने लगा रही थी, लेकिन जब विधानसभा में अपनी बात रखने और डिबेट करने का मौके आया तो वहां से वॉक

चंडीगढ़ पंजाब में होने वाले नगर निगम चुनावों के लेकर कांग्रेस ने अपनी तैयारियां शुरू कर दी है। इसी कड़ी में आज चंडीगढ़ में कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष सुनील जाखड़ की अध्यक्षता में अहम बैठक हुई। इस बैठक में आगामी रणनीति पर चर्चा की गई। बैठक में जाखड़ ने कहा स्वच्छता पर विशेष ध्यान दिया जाए।

पंजाब कांग्रेस के नए अध्यक्ष सुनील जाखड़ आज अपना कार्यभार संभाल लिया है।  इस दौरान पंजाब सीएम कैप्टन अमरिंदर सिंह, आशा कुमारी और हरीश चौधरी भी मौजूद रहे।

पंजाब कांग्रेस के ऩवनियुक्त अध्यक्ष सुनील जाखड़ ने कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी से मुलाकात की. इस दौरान उन्होंने पार्टी के संगठन स्तर को लेकर चर्चा की। इससे पहले शुक्रवार को जाखड़ ने कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी से मुलाकात की थी, जिसके बाद उन्होंने MHONE NEWS से खास बातचीत में कहा था कि संगठन और सरकार के बीच में सटीक तालमेल बनाए रखना सबसे बड़ी चुनौती है, जिसको लेकर वह अपनी तरफ से पूरी कोशिश करेंगे ताकि सूबे में विकास हो सके। इसके साथ ही उन्होंने संगठन स्तर पर आने वाले वक्त में आला हाईकमान की तरफ से दिए गए निर्देशों के मुताबिक