पंजाब में किसानों की खुदकुशी के मामले थमने का नाम नहीं ले रहे है. पंजाब में एक और किसान की आत्महत्या का मामला सामने आया है. तरनतारन के वैरोवाल गांव में कर्ज से परेशान किसान ने खुदकुशी कर ली. बताया जा रहा है कि किसान पर 19 लाख कर्ज था. किसान का नाम सतनाम सिंह है.

तरनतारन के अमरकोट सेक्टर से बीएसएफ की 87 बटालियन के जवानों ने तारा सिंह पोस्ट के पास 4 किलो हेरोइन बरामद की है. बरामद की गई हेरोइन की कीमत अंतरराष्ट्रीय बाजार में करीब 20 करोड़ है. बता दे कि हेरोइन पाकिस्तान की सीमा पार से फेंकी गई. बीएसएफ की 87 बटालियन के  के अधिकारी के मुताबिक वीरवार सुबह बीएसएफ के जवान सीमा पर गश्त कर रहे थे. इसी दौरान जवानों को हेरोइन बरामद हुई

तरनतारन विजिलेंस टीम ने पंजाब पुलिस के एक एएसआई को रिश्वत लेते रंगे हाथ गिरफ्तार किया है। विजिलेंस टीम के मुताबिक एएसआई बख्शीस सिंह ने कोर्ट के एक मामले में गवाही के बदले 20 हजार रुपए की रिश्वत त मांगी थी। इसकी शिकायत पर पुलिस ने उसे रिश्वत लेते रंगे हाथ गिरफ्तार कर लिया। शिकायतकर्ता ने बताया कि एएसआई ने एक मामले को लेकर कोर्ट में गवाही देने के लिए उसने 50 हजार रुपए की रिश्वत मांगी थी, जिसे दो किश्तों में देना था। पहली किश्त 20 हजार रुपए की देनी थी कि पुलिस ने उसे रंगे हाथ गिरफ्तार कर

तरनतारन के कस्बा गोइंदवाल साहिब के समीप धुंदा गांव में तिरपन जिंदा बम मिलने के बाद गांव में दहशत फैल गई। मौके पर पहुंची पुलिस ने गांव के लोगों को उस स्थान से दूर कर बम निरोधक टीम को इसकी सूचना दी। एसएसपी दर्शन सिंह ने बताया कि ये बम 1970 की जंग के हैं, जो आर्मी द्वारा जमीन में दबाए गए थे, और ये पुराने बम हैं।

पंजाब में किसानों की खुदकुशी का सिलसिला थम नहीं रहा है। ताजा मामला तरनतारन के सरहदी गांव नोशहरा ढाला का है, जहां कर्ज से तंग किसान कुलवंत सिंह ने जगर खाकर खुदकुशी कर ली। कुलवंत सिंह पर आढ़तियों और सोसायटी का करीब सात लाख रुपए का कर्ज था। जिससे वो हमेशा परेशान रहता था। परिजनों के मुताबिक कुलवंत पर तीन एकड़ खेत था, जिसमें से एक एकड़ खेत कर्ज चुकाने के चलते बेच दिया। वहीं मामले की जांच कर रही है।

पुंछ हमले में शहीद हुए परमजीत के परिवारवालों से मिलने पंजाब के सीएम कैप्टन अमरिंदर सिंह पहुंचे. इस मौके पर उनके साथ पंजाब कैबिनेट मंत्री नवजोत सिंह सिद्धू और नवनियुक्त पंजाब कांग्रेस अध्यक्ष सुनील जाखड़ भी मौजूद रहे. कैप्टन अमरिंदर सिंह ने ऐलान किया कि परिवार में से बड़ी बेटी को सरकारी नौकरी दी जाएगी और फ्लैट भी दिया जाएगा। इसके अलावा बच्चों की पढ़ाई का खर्च पंजाब सरकार उठाएगी।  कैप्टन ने शहीद के परिवारवालों को 12 लाख का चैक भी दिया.