आतंकवादी संगठन हिज़्ब-उल-मुजाहिदीन के प्रमुख सैयद सलाहुद्दीन के बेटे सैयद शाहिद यूसुफ को आतंकवाद-रोधी NIA ने गिरफ्तार कर लिया है. सैयद सलाहुद्दीन का बेटा सैयद शाहिद यूसुफ जम्मू एवं कश्मीर सरकार के कृषि विभाग में काम करता है, और उसे वर्ष 2011 के आतंकवाद फंडिंग केस के सिलसिले में दिल्ली से गिरफ्तार किया गया है. सैयद शाहिद यूसुफ पर कश्मीर में जारी आतंकवाद में इस्तेमाल किए जाने के लिए सलाहुद्दीन के इशारे पर सीरिया से रकमें लेने का आरोप है. पुलिस के मुताबिक, ये रकमें 2011 और 2014 के बीच चार किस्तों में भेजी गईं. इस मामले में आरोपी बनाए गए

राज्य में अशांति फैलाने के मकसद से पाकिस्तान की ओर से आतंकियों को धन उपलब्ध कराने के मामले में राष्ट्रीय जांच एजेंसी (एनआइए) की टीम ने रविवार को जम्मू में एक वकील देवेंद्र सिंह बहल के घर छापा मारा। इस दौरान एनआइए टीम ने अलगाववादियों से जुड़े कुछ आपत्तिजनक दस्तावेज और चार मोबाइल फोन जब्त किए। वहीं टेरर फंडिंग से ही जुड़े एक अन्य मामले में एनआइए ने गिलानी के दूसरे बेटे नसीम को समन भेजकर बुधवार को एजेंसी के सामने पेश होने को कहा। इससे पहले एनआईए ने गिलानी के बड़े बेटे नईम को शनिवार को मुख्यालय तलब किया था।

जम्मू कश्मीर में आतंकियों की फंडिंग का मामला थमने का नाम नहीं ले रहा। ऐसे में राष्ट्रीय जांच सुरक्षा एजेंसी पूरे देश में आतंकवाद के जड़ को खोजने में लग गई है और इसी तलाश में एजेंसी शनिवार को सोनीपत भी पहुंची। राष्ट्रीय जांच सुरक्षा एजेंसी (NIA) ने फंडिंग के मामले में सोनीपत में की छापेमारी की। एजेंसी को शक था कि सबोली गांव के पास प्रभु कोल्ड स्टोर पर कुछ संदिग्ध क्रियाकलाप हो रहा है जिसके चलते एनआईए की टीम ने इस कोल्ड स्टोर पर छापेमारी की। एजेंसी को शक है कि दिल्ली-हरियाणा के कुछ व्यापारियों की मदद से पैसा कश्मीर