हिमाचल प्रदेश के सीएम और कांग्रेस नेता वीरभद्र सिंह आज एसडीएम आफिस अर्की में अपना नामांकन दाखिल किया. नामांकन के बाद वीरभद्र सिंह अर्की के शाला घाट में जनसभा को संबोधित करेंगे. वीरभद्र सिंह को कांग्रेस ने सोलन जिले की अर्की सीट से टिकट दिया है. वीरभद्र सिंह 2012 में शिमला ग्रामीण से विधायक चुने गये थे. गौरतलब है कि हिमाचल प्रदेश विधानसभा चुनाव में नामांकन दाखिल करने की अंतिम तारीख 23 अक्तूबर है. 68 सीटों वाली राज्य की विधानसभा के लिए यहां 9 नवंबर को चुनाव होगा और इसके परिणामों की घोषणा 18 दिसंबर को की जाएगी. आपको बता दें कि कांग्रेस

विधानसभा चुनावों से पहले मुख्यमंत्री वीरभद्र सिंह  ने नाहन और पांवटा साहिब के दौरे पर है.  इस दौरान सीएम वीरभद्र सिंह ने नाहन को करोड़ों की सौगातें दी. साथ ही करोड़ों की योजनाओं के उद्घाटन और शिलान्यास किया. मुख्यमंत्री ने 25 करोड़ 56 लाख रुपये की लागत से निर्मित राजकीय महाविद्यालय नाहन का उद्घाटन किया. करीब 1 करोड़ 40 लाख रूपये की लागत से बनने वाले जिला कोष अधिकारी कार्यालय भवन का शिलान्यास और 5 करोड़ की लागत से बनने वाले इंडोर ऑडिटोरियम का उद्घाटन किया. इसके अलावा 9 करोड़ की लागत से निर्मित होने वाले पुलिस स्टेशन का शिलान्यास किया  

हिमाचल प्रदेश के मुख्यमंत्री वीरभद्र सिंह का मंडी दौरा  रद्द हो गया है.  बताया जा रहा है कि खराब मौसम के चलते दौरा रद्द करना पड़ा. सीएम के दौरे से पहले मंडी शहर में कर्मचारियों ने सफाई की.बताया जा रहा है कि सुंदरनगर,गोहर में कई विकास योजनाओं का शिलान्यास मुख्यमंत्री वीरभद्र सिंह करने वाले थे.

हिमाचल के मुख्यमंत्री वीरभद्र सिंह ने आज दिल्ली में कांग्रेस पार्टी की अध्यक्ष सोनिया गांधी से मुलाकात की। इस मुलाकात के दौरान सीएम वीरभद्र सिंह ने कई मुद्दों पर चर्चा की। आपको बता दें, कि वीरभद्र सिंह इस बार चुनाव लड़ेंगे या नहीं इसपर भी सस्पेंस बना हुआ है।

हिमाचल प्रदेश के सीएम वीरभद्र सिंह आय से अधिक मामले में बुधवार को दिल्ली की पटियाला हाउस कोर्ट में पेश हुए. सीएम के साथ में उनकी पत्नी प्रतिभा सिंह भी थी. बुधवार को वीरभद्र सिंह को सीबीआई ने सीएम की ओर से मांगे गए डॉक्यूमेंट मुहैया नहीं करवाएं. इसके बाद पटियाला हाउस कोर्ट ने मामले की सुनवाई 31 अक्टूबर तक टाल दी. सीबीआई के तरफ से कोर्ट में दलील दी गई कि केस के जांच अधिकारी किसी और मामले में व्यस्त थे. लिहाजा, वह जरूरी कागजात फिलहाल उपलब्ध नहीं करवा सकते हैं. इसके बाद सीबीआई ने अगली तारीख की मांग की. क्या

हिमाचल कांग्रेस विधायक दल की आज शाम छह बजे सीएम के सरकारी आवास ओक ओवर में होगी। मुख्यमंत्री वीरभद्र सिंह की अध्यक्षता में होने वाली बैठक में प्रदेश कांग्रेस के नवनियुक्त प्रभारी सुशील कुमार शिंदे भी मौजूद रहेंगे। आपको बता दें कि कांग्रेस और प्रदेश संगठन में इस वक्त घमासान मचा हुआ है। सीएम और कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष में आए दिन खींचतान की खबरें आ रही हैं। दोनों एक दूसरे पर जमकर निशाना साध रहे हैं। बैठक में कांग्रेस के सभी विधायक मौजूद रहेंगे। प्रदेश प्रभारी बनने के बाद शिंदे की विधायकों के साथ पहली बैठक होगी।

हिमाचल प्रदेश में कांग्रेस के छह विधायकों ने मुख्यमंत्री वीरभद्र सिंह के खिलाफ हाईकमान को पत्र लिखा है।इस पत्र में सीएम वीरभद्र सिंह को सीएम पद से हटाने की मांग की गई है। इस पत्र की एक कॉपी प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष सुखविंदर सुक्खू को भी भेजी गई है। सूत्रों के मुताबिक विधायकों का आरोप है कि कोटखाई मामले को निपटाने में वीरभद्र सरकार असफल रही है। कांग्रेस विधायक कोटखाई मामले में सीएम वीरभद्र के गैर जिम्मेदाराना बयान से नाराज हैं।

हिमाचल प्रदेश के मुख्यमंत्री वीरभद्र सिंह की मनी लॉन्ड्रिंग केस को रद्द करने की याचिका पर आज दिल्ली हाईकोर्ट ने अपना फैसला सुनाया। हाईकोर्ट ने वीरभद्र सिंह की याचिका को खारिज कर दिया है। दरअसल, सीएम वीरभद्र ने याचिका लगाकर मांग की थी कि उनपर ED की और से दर्ज FIR को रद्द कर दिया जाए। हाईकोर्ट ने दोनों पक्षों की तरफ से दलीलें सुनने के बाद अपना फैसला सुरक्षित रख लिया था। मगर सोमवार को कोर्ट ने वीरभद्र सिंह की याचिका को खारिज कर दिया।

हिमाचल मंत्रिमंडल की मुख्यमंत्री वीरभद्र सिंह की अध्यक्षता में अहम बैठक हुई। लगभग चार घंटे चली इस बैठक में 118 मुद्दों पर चर्चा हुई। बैठक में हिमाचल के शहरी विकास मंत्री सुधीर शर्मा और पंयाचत राज्य मंत्री अनिल शर्मा भी मौजूद नहीं थे। बैठक में फैसला लिया गया कि चीनी सब्सिडी अब प्रदेश सरकार अपने खर्चे पर देगी। साथ ही जनता को अब तेल में भी चॉव्इस दी जाएगी। वहीं,पथ परिवहन निगम दो सौ पचास छोटी बसें भी खरीदेगा। बैठक में 11 प्राइमरी स्वास्थ्य सेंटरों को भी बनाने के लिए मंजूरी दे दी गई है।

दिल्ली आय से अधिक संपत्ति मामले में घिरे हिमाचल के मुख्यमंत्री वीरभद्र सिंह को बड़ी राहत मिली है. पटियाला हाउस कोर्ट में सीबीआई की विशेष अदालत ने वीरभद्र सिंह की जमानत याचिका स्वीकार करते हुए उन्हें सशर्त जमानत दे दी है. अदालत ने वीरभद्र सिंह, उनकी पत्नी और मामले से जुड़े बाकी लोगों को भी जमानत दी है. सोमवार दोपहर अदालत ने अपना फैसला सुनाते ह़ुए सीबीआई को भी आवश्यक दिशा-निर्देश जारी किए हैं. केस से जुड़े सभी आरोपियों को एक एक लाख के निजी मुचलके पर जमानत मिली है. इसके अलावा वीरभद्र सिंह अदालत की अनुमति के बिना विदेश भी नहीं जा