अभिनेता अनुपम खेर और अभिनेता नसीरुद्दीन शाह के बीच तनातनी

0
51
views

अभिनेता अनुपम खेर और नसिरुद्दीन शाह के बीच इस वक्त सबकुछ सही नहीं है, CAA-NRC प्रोटेस्ट के बीच बॉलीवुड के इन दो वेटरन सितारों के बीच तनातनी देखने को मिल रही है. दि वायर के साथ इंटरव्यू में नसीरुद्दीन शाह ने अनुपम खेर को लेकर तीखी प्रतिक्रियाएं दी थीं. उन्होंने अनुपम को जोकर बताया और उन्हें गंभीरता से ना लेने की बात कही थी. अब इस मामले में अनुपम खेर का भी रिस्पॉन्स सामने आया है.

अभिनेता अनुपम खेर ने एक ट्वीट करते हुए कहा कि डियर नसीर जी, मैंने आपका दिया हुआ इंटरव्यू देखा. आपने मेरी तारीफ में कुछ बातें कहीं कि मैं एक जोकर हूं, मुझे गंभीरता से नहीं लेना चाहिए, ये मेरे खून में हैं वगैरह वगैरह.

आपके द्वारा की गई इस तारीफ के लिए शुक्रिया पर मैं आपको और आपकी बातों को बिल्कुल भी गंभीरता से नहीं लेता हूं. हालांकि मैंने कभी भी आपकी बुराई नहीं की पर आज जरुर कहना चाहता हूं कि आपने अपनी पूरी जिंदगी इतनी कामयाबी मिलने के बाद भी फ्रस्ट्रेशन में ही बिताई है.

  • CAA-NRC प्रोटेस्ट के बीच बॉलीवुड के दो वरिष्ठ सितारों के बीच तनातनी
  • नसीरुद्दीन शाह के जोकर वाले बयान के बाद अब अनुपम खेर का जवाब
  • अभिनेता अनुपम खेर ने नसिरुद्दीन शाह को करारा जवाब दिया

अनुपम खेर ने कहा कि अगर आप दिलीप कुमार साहब को, अमिताभ बच्चन को, राजेश खन्ना साहब को, शाहरुख खान को, विराट कोहली की आलोचना कर सकते हैं तो फिर मुझे तो लगता है कि मैं भी एक अच्छी कंपनी में हूं और इनमें से किसी ने भी आपकी स्टेटमेंट्स को गंभीरता से नहीं लिया क्योंकि हम सब जानते हैं कि ये आप नहीं बल्कि ये बरसों से आप जिन पदार्थों का सेवन करते आए हैं, उनकी वजह से क्या सही है और क्या गलत है, आपको इसका अंतर ही नहीं पता चल पाता है.

अनुपम खेर ने कहा कि मेरी बुराई करके अगर आप एक-दो दिन सुर्खियों में आना चाहते हैं तो मैं आपको ये खुशी भेंट करता हूं. और आप जानते हैं कि मेरे खून में क्या है ? मेरे खून में हिंदुस्तान हैं, इसको समझ जाइए बस.

आपको बता दें कि इससे पहले नसीरुद्दीन शाह ने भी अनुपम खेर सीएए-एनआरसी प्रोटेस्ट्स को लेकर कड़ी आलोचना की थी. उन्होंने कहा था कि अनुपम एक जोकर हैं. उन्हें गंभीरता से लेने की जरुरत नहीं है.

एनएसडी, एनएफटीआईआई के दौर के उनके कई समकालीन लोग उनके साइकोपैथ नेचर के बारे में बता सकते हैं, ये उनके खून में है. लेकिन बाकी लोग जो इनका समर्थन कर रहे हैं उन्हें फैसला करना चाहिए कि आखिर वे किसका सपोर्ट कर रहे हैं. उन्हें हमें हमारी जिम्मेदारी बताने की जरुरत नहीं है, हम जानते हैं कि हमारी जिम्मेदारियां क्या हैं.’