किसी भी कीमत पर शांति को भंग नहीं होने देंगे: सीएम कैप्टन अमरिंदर सिंह

0
165
views

नई दिल्ली

पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह ने डेरा सच्चा सौदा के मुखी राम रहीम सिंह के विरुद्ध बलात्कार के मामले में अदालत के आने वाले फैंसले के संबंध में राज्य में कानून व्यवस्था को तोडऩे के विरुद्ध किसी भी तरह की कोशिश विरुद्ध कठोर चेतावनी दी है। मुख्यमंत्री ने कहा कि उनकी सरकार सूबे की कानून व्यवस्था को भंग करने की किसी को भी आज्ञा नहीं देगी। साथ ही इस तरह की किसी भी कोशिश को नाकाम करन के लिए सूबा पुलिस को निर्देश दिए हैं।

मीडिया से बातचीत करते हुए मुख्यमंत्री ने कहा कि सूबे को सुरक्षा बनाई रखने के लिए केंद्र सरकार द्वारा केंद्रीय फोर्स की 75 कंपनियां प्राप्त हुई हैं और अदालत के फैसले के बाद किसी भी तरह की गड़बड़ी रोकने और कानून व्यवस्था बनाये रखने के लिए सभी कदम उठाए जा रहे हैं।

राज्य के लोगों को शांति बनाये रखने की अपील करते हुए मुख्यमंत्री ने कहा कि लोगों को अदालत के फ़ैसले को स्वीकार करना चाहिए। बता दें कि  हरियाणा पुलिस द्वारा डेरा मुखी के विरुद्ध दर्ज किये बलातकार केस के संबंध में पंचकुला अदालत की तरफ से 25 अगस्त को फ़ैसला दिया जा रहा है। मुख्यमंत्री ने पुलिस के डी.जी.पी. सुरेश अरोड़ा को निर्देश दिए हैं कि वह निजी तौर पर नाजुक इलाकों का दौरा करें और किसी भी अप्रिय घटना को रोकने के लिए पूरी तरह सुरक्षा प्रबंध यकीनी बनाये।

स्थिति पर समीप से नजर रख रहे मुख्यमंत्री ने डी.जी.पी. को आज सुबह बठिंडा और हरियाणा की सीमा के साथ लगते और नाजुक जिलों का दौरा करने और सुरक्षा प्रबंधों का जायजा लेने के निर्देश दिए हैं। अरोड़ा ने बठिंडा में सुरक्षा प्रबंधों का जायजा लिया और पुलिस कर्मचारियों को चौकस रहने और सूबे में हर हालत में शांति और सदभावना को कायम रखनें के निर्देश दिए। बठिंडा के इलावा डी.जी.पी. ने मानसा, मोगा, पटियाला, लुधियाना देहाती, फतहेगढ़ साहिब और मोहाली का भी दौरा किया।
बठिंडा के सिरसे साथ लगते इलाके में बड़े स्तर पर पुलिस तैनात की गई है।

सिरसा डेरा सच्चा सौदा का हैड क्वार्टर है। पुलिस ने सी.आर.पी.एफ. और रैपिड एक्शन फोर्स के साथ मिल कर फ्लैग मार्च किया। इस तरह का मार्च मोगा में भी किया गया। पुलिस डेरा सच्चा सौदा के पैरोकारों के साथ संपर्क में है और उनको शांति बनाये रखने की अपील की गई है।

डी.जी.पी. को नाजुक क्षेत्रों का हवाई सर्वे करने के लिए पंजाब सरकार द्वारा हैलीकपटर उपलब्ध कराया गया है और उनको नाजुक इलाकों के जमीनी हालतों पर समीप निगाह रखने के लिए निर्देश दिए गए हैं।