नीरव मोदी के लंदन में होने की पुष्टि, प्रत्यर्पण के लिए CBI ने की अपील

0
348
views

पंजाब नेशनल बैंक ( पीएनबी ) घोटाले में मुख्य आरोपी नीरव मोदी लंदन में रह रहा है. यूनाइटेड किंगडम ( यूके ) ने इसकी पुष्टि की है. इसके बाद सीबीआई ने नीरव मोदी के प्रत्यर्पण की अपील को आगे बढ़ा दिया है. सीबीआई अधिकारियों ने कहा है कि ब्रिटेन की ओर से इस बात की पुष्टि होने के बाद नीरव के प्रत्यर्पण के लिए अपील की गई है.

अधिकारियों ने बताया कि नीरव मोदी को वापस लाने का अनुरोध अब विदेश मंत्रालय के माध्यम से ब्रिटेन भेजा जाएगा. इसके साथ ही सीबीआई ने ब्रिटेन के अधिकारियों से नीरव मोदी को उसके खिलाफ इंटरपोल द्वारा जारी रेड कॉर्नर नोटिस के आधार पर हिरासत में भी लेने का अनुरोध किया है.

हीरा कारोबारी नीरव मोदी, उसके मामा मेहुल चोकसी और संबंधियों पर पंजाब नेशनल बैंक से 13,500 करोड़ रुपये गलत तरीके से लेने और फिर वापस नहीं करने का आरोप है. केंद्रीय जांच ब्यूरो (CBI) ने पीएनबी घोटाले में इसी साल फरवरी में मेहुल चोकसी और नीरव मोदी के खिलाफ केस दर्ज किया था. घोटाले का खुलासा होने से पहले ही दोनों देश से फरार हो गए थे. इन दोनों के खिलाफ सीबीआई, ईडी समेत अन्य जांच एजेंसियां लगातार जांच में जुटी हुई हैं और इनके प्रत्यर्पण की कोशिश की जा रही है.

सूत्रों के मुताबिक, नीरव मोदी ने सिंगापुर की नागरिकता मांगते हुए वहां का पासपोर्ट हासिल करने की अपील की थी. लेकिन सिंगापुर सरकार ने उसकी अपील को ठुकरा दिया और नागरिकता देने से इनकार कर दिया. वहीं बताया जा रहा है कि मेहुल चोकसी को हाल ही में एंटीगुआ में देखा गया था, जहां उसने नागरिकता ले ली है. नीरव और मेहुल  ने कारोबारी और सेहत संबंधी कारणों का हवाला देते हुए जांच में शामिल होने के लिए भारत लौटने से इनकार कर दिया है.

इसी साल जुलाई महीने में अंतरराष्ट्रीय एजेंसी इंटरपोल ने भारत की सिफारिश के बाद नीरव मोदी के खिलाफ रेड कॉर्नर नोटिस जारी किया था. इसके अलावा नीरव मोदी के भाई निशल मोदी और उसकी कंपनी के एग्जीक्यूटिव सुभाष परब के खिलाफ भी यह नोटिस जारी किया गया था. इंटरपोल द्वारा जारी किए गए नोटिस में अपने सदस्य देशों से कहा गया था कि अगर नीरव मोदी आपके यहां दिखता है तो उसे गिरफ्तार या हिरासत में लिया जाए.