सोमवार से संसद का शीतकालीन सत्र, ये रहेंगे अहम मुद्दे

0
118
views

सोमवार से शुरू होने जा रहे संसद के शीतकालीन सत्र  के काफी गर्मागर्म रहने की संभावना है. विपक्षी दल जहां आर्थिक सुस्ती और कश्मीर में स्थिति को लेकर केंद्र सरकार को घेरने की तैयारी में हैं वहीं मोदी सरकार विवादित नागरिकता (संशोधन) विधेयक को पारित कराना चाहेगी जो भाजपा (BJP) के वैचारिक एजेंडे का अहम हिस्सा है.

  • प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी  ने रविवार को सर्वदलीय बैठक में अपने औपचारिक संबोधन में कहा कि सरकार हर मुद्दे पर चर्चा के लिये तैयार है.
  • उन्होंने शीतकालीन सत्र को पिछले सत्र की तरह ही कारगर बनाने के लिये प्रोत्साहित किया.
  • पिछले सत्र में संसद से कई अन्य अहम विधेयकों के अलावा जम्मू कश्मीर राज्य के बंटवारे और अनुच्छेद 370 (Article 370) के अधिकतर प्रावधानों को खत्म करने पर सहमति मिली थी.

13 दिसंबर तक चलेगा सत्र
कांग्रेस के गुलाम नबी आजाद  सहित विपक्षी नेताओं ने जम्मू कश्मीर में फारुक अब्दुल्ला जैसे मुख्यधारा के नेताओं को लगातार हिरासत में रखे जाने का मुद्दा उठाया और कहा कि वे आर्थिक सुस्ती एवं बेरोजगारी जैसे मुद्दों को सत्र में उठायेंगे. संसद का शीतकालीन सत्र 13 दिसंबर तक चलेगा.

भाजपा के नेतृत्व वाले NDA ने पिछले सत्र में खासकर राज्यसभा  में जहां सत्ता पक्ष बहुमत में नहीं है, वहां स्वतंत्र क्षेत्रीय दलों और कई विरोधी नेताओं को अपने पाले में कर कई विधेयकों को पारित कराकर विपक्ष को चकित कर दिया था. हालिया राजनीतिक घटनाक्रमों से कांग्रेस के नेतृत्व वाले समूह का उत्साह बढ़ा है. हाल के विधानसभा चुनावों में उम्मीद से बेहतर प्रदर्शन, शिवसेना  के साथ भाजपा का संबंध टूटना और आर्थिक सुस्ती पर रिपोर्ट ने हवा का रुख विपक्षी दलों के पाले में कर दिया है.