वर्ल्‍ड बायोफ्यूल डे: बायोमास को बायोफ्यूल में बदलने के लिए सरकार कर रही है निवेश

0
345
views

वर्ल्‍ड बायोफ्यूल डे के मौके पर शुक्रवार को व‍िज्ञान भवन में पीएम मोदी ने एक कार्यक्रम में लोगों को संबोधित किया. इस दौरान पीएम मोदी ने कहा कि बायोफ्यूल का इस्‍तेमाल क‍िसानों की आमदनी बढ़ाएगा. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि बायोमास को बायोफ्यूल में बदलने के लिए सरकार बहुत बड़े स्‍तर पर न‍िवेश कर रही है. देशभर में 10 हजार करोड़ रुपये के न‍िवेश से आधुन‍िक रिफाइनरी बनाने की योजना है. र‍िफाइनरी के ऑपरेशन से लेकर सप्‍लाई चेन त‍क, लगभग 1.50 लाख नौजवानों को रोजगार के नए अवसर उपलब्‍ध होंगे. वही देश का धन बचाएगा और पर्यावरण के लिए भी वरदान साब‍ित होगा.

पीएम मोदी ने कहा कि बीते चार वर्षों में इथेनॉल का र‍िकॉर्ड उत्‍पादन क‍िया गया है. इथेनॉल ने देश के न स‍िर्फ किसानों को लाभ पहुंचाया बल्‍क‍ि देश का पैसा भी बचाया है. प‍िछले वर्ष देश को लगभग 4,000 करोड़ रुपये के बराबर की व‍िदेशी मुद्रा की बचत हुई है. बायोफ्यूल के जर‍िये अगले चार साल में 12 हजार करोड़ रुपये की बचत हो सकती है.

इथेनॉल उत्पादन चार साल में बढ़कर 450 करोड़ लीटर

मोदी ने कहा कि इथेनॉल ब्‍लेंड‍िंग का लक्ष्‍य सरकार 2022 तक बढ़‍कर 10 फीसदी और 2030 तक 20 फीसदी करना है. उन्होंने कहा कि इथेनॉल उत्पादन अगले चार साल में बढ़कर 450 करोड़ लीटर हो जाएगा, जो कि अभी 140 करोड़ लीटर है.

गांव से लेकर शहर तक के जीवन को बदलने वाला

बता दें क‍ि पीएम मोदी ने कहा कि बायोफ्यूल 21वीं सदी के भारत को नई ऊर्जा देने वाला है. बायोफ्यूल यानी फसलों से निकला ईंधन, कूड़े-कचरे से ईंधन निकला. ये गांव से लेकर शहर तक के जीवन को बदलने वाला है. बायोफ्यूल से बदलाव की क्रांति घर-घर सिर्फ सरकार के प्रयासों से नहीं पहुंच पाएगी, बल्कि इसमें छात्रों, शिक्षकों, वैज्ञानिकों, कारोबारियों और जन-जन की भागीदारी अहम है.

पीएम ने सुनाया चायवाले और किसान का किस्सा

वर्ल्ड बायोफ्यूल डे पर एक कार्यक्रम के दौरान शुक्रवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने एक किसान और एक चायवाले की आधुनिक तकनीक का जिक्र किया.