कोहली की भूख भारत को ऑस्ट्रेलिया में टेस्ट सीरीज जीतने का प्रबल दावेदार बनाती है- विवियन रिचडर्स

0
411
views

वेस्टइंडीज के दिग्गज बल्लेबाज विवियन रिचर्ड्स का कहना है कि कप्तान विराट कोहली की जीत की भूख टीम इंडिया को अभी भी ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ खेली जा रही टेस्ट सीरीज में जीत का प्रबल दावेदार बनाती है. रिचर्ड्स ने कहा कि कोहली की नेतृत्व क्षमता और लड़ने की जिद अभी भी भारत को सीरीज में बनाए रखे हुए है.

एक न्यूज एजेंसी से बातचीत करते हुए विवियन रिचर्ड्स ने कहा, ‘टीम इंडिया के पास इस सीरीज को जीतने का शानदार मौका है. पर्थ टेस्ट में हार के बावजूद टीम इंडिया अभी जीत सकती है. भारत के पास विराट कोहली जैसा कप्तान है, जिसके अंदर जीतने की भूख है और अपने खिलाड़ियों को जीत के लिए प्रेरित करना वो जानते हैं.’

इसके साथ ही विवियन रिचर्ड्स ने मानना है कि स्टीवन स्मिथ और डेविड वॉर्नर के बिना भी ऑस्ट्रेलिया अपने घर में एक शानदार टीम है. वेस्टइंडीज के इस दिग्गज बल्लेबाज ने कहा, ‘मैं अभी भी टी इंडिया को जीत का प्रबल दावेदार मानता हूं, लेकिन किसी को भी यह नहीं भूलना चाहिए कि आस्ट्रेलियाई टीम स्मिथ और वार्नर के अलावा भी शानदार टीम है. प्रतिभा में जो उनके पास नहीं है उसकी पूर्ति वह अपने नजरिए से कर रहे हैं.’

कोहली को लेकर रिचडर्स ने कहा है कि उनको अभी सर्वकालिक महान खिलाड़ियों में खड़ा करना जल्दबाजी होगी. इसके लिए उनके करियर को खत्म होने का इंतजार करना होगा. रिचडर्स ने कहा, ‘मौजूदा दौर के खिलाड़ियों में कोहली मेरे पसंदीदा हैं. मेरे कई पैमाने हैं. मुझे लगता है कि हमें विराट कोहली के करियर के खत्म होने का इंतजार करना चाहिए. अभी हम इस बात की चर्चा करेंगे तो यह जल्दबाजी होगी, लेकिन निश्चित ही वह शानदार स्थिति में हैं.’

पर्थ टेस्ट में कोहली और टिम पेन के बीच हुई लड़ाई को लेकर इस दिग्गज बल्लेबाज ने कहा कि विराट कोहली ने लाइन क्रॉस नहीं की. उन्होंने कहा, ‘मुझे नहीं लगता कि कोहली ने सीमा लांघी है. मुझे लगता है कि बीसीसीआई ने भी यही कहा है और मैं उनकी बात को ही दोहरा रहा हूं.’

बता दें कि भारत और ऑस्ट्रेलिया के बीच चार टेस्ट मैचों की सीरीज का तीसरा मुकाबला 26 दिसंबर से मेलबर्न में खेला जाएगा. चार टेस्ट मैचों की सीरीज में भारत और ऑस्‍ट्रेलिया इस समय 1-1 की बराबरी पर हैं. भारतीय टीम ने एडिलेड में पहला टेस्‍ट जीतकर सीरीज में 1-0 की बढ़त हासिल की थी, लेकिन ऑस्‍ट्रेलिया ने पलटवार करते हुए पर्थ का दूसरा टेस्‍ट जीतकर मामला बराबर कर दिया.