कोरोना के बीच चारधाम के कपाट खुलने को लेकर गाइडलाइन जारी, पढ़ें SOP

0
301
views

14 मई को अक्षय तृतीया के मौके पर यमुनोत्री धाम के कपाट खुलने के साथ ही चारधाम यात्रा का श्रीगणेश हो जाएगा। इस बार कोरोना संक्रमण को देखते हुए तीर्थयात्रियों के लिए यात्रा स्थगित कर दी गई है। वहीं, चारों धाम के कपाट अपने तय समय पर खुलेंगे।

कपाट खुलने को लेकर आज मंगलवार को चारधाम देवस्थानम प्रबंधन बोर्ड के मुख्य कार्यकारी अधिकारी रविनाथ रमन ने एसओपी जारी कर दी है। जिसके तहत चारों धामों के कपाट रोजाना सुबह सात से शाम सात बजे तक ही खोले जाएंगे।

बता दें कि यमुनोत्री धाम के कपाट अक्षय तृतीया पर 14 मई को दिन में 12.15 बजे और गंगोत्री धाम के कपाट इस बार 15 प्रात: 7.31 बजे खुलेंगे। जबकि केदारनाथ के कपाट 17 मई को सुबह 5 बजे और बदरीनाथ धाम के कपाट 18 मई प्रात: 4.15 बजे खुलेंगे।

सांकेतिक रूप में खुलेंगे चारों धामों के कपाट
चारधामों के कपाट निर्धारित तिथियों पर सांकेतिक रूप से खुलेंगे। गढ़वाल आयुक्त और उत्तराखंड देवस्थानम बोर्ड के मुख्य कार्यकारी अधिकारी रविनाथ रमन ने कहा कि धामों में पूजा परंपरा से जुड़े तीर्थ पुरोहित और हक-हकूकधारियों को कोरोना निगेटिव रिपोर्ट दिखाने के बाद ही जाने की अनुमति दी जाएगी। धामों में कोविड-19 प्रोटोकाल का पूरी तरह से पालन किया जाएगा। धामों के कपाट पूर्व निर्धारित तिथियों पर सांकेतिक रूप से खुलेंगे और परंपरागत रूप से पूजा अर्चना चलती रहेगी। लेकिन किसी भी श्रद्धालु को चारधाम यात्रा पर आने की अनुमति नहीं होगी।

चारधाम यात्रा स्थगित करना स्वागत योग्य
बदरीनाथ डिमरी धार्मिक केंद्रीय पंचायत के अध्यक्ष विनोद डिमरी श्रीराम ने चारधाम यात्रा स्थगित करने के प्रदेश सरकार के निर्णय को स्वागत योग्य बताया। उन्होंने लोगों से कोरोना संक्रमण की चेन तोड़ने के लिए घर पर रहकर ही भागवान बदरीविशाल का ध्यान करने की अपील की। कहा कोरोना संक्रमण की स्थिति सामान्य होने पर भक्तों को भगवान बदरीविशाल के दर्शन करने का अवसर मिलेगा।