अब गांव में शराब को टक्कर देगी दूध की चक्की, गली-गली बिकेंगे दूध के प्रोडक्ट

0
222
views

गांव में शराब के चलन को रोकने के लिए प्रदेश के पशुपालन विभाग ने नया प्रोजेक्ट शुरू किया है. इसमें शराब के खुर्दों को टक्कर देने के लिए गांव में मिल्क प्रोसेङ्क्षसग पार्लर शुरू किए जाएंगे. इन मिल्क पार्लरों को तैयार करने का काम भी गांव के ही युवा पशुपालकों का होगा. इस काम में मदद सरकारी मशीनरी करेगी. पशुपालन विभाग दो प्रकार की सब्सिडी देकर गांव से ही युवाओं को दूध के व्यवसाय में आगे बढ़ाएगा.

 

डा. गुलाटी ने बताया कि प्रधानमंत्री के किसानों की आय दोगुनी करने के अभियान को देखते हुए पशुपालन विभाग ने मिल्क प्रोसेङ्क्षसग पार्लर के लिए बड़े गांवों को चुना है. हमने देखा है कि गांव में एक पशुपालक औसतन 60 किलो दूध बेचता है, जिसे दूधिया 160 लीटर बनाकर बाजारों में बेच देता है. ऐसे में असली लाभ पशुपालक को मिलना चाहिए, वह उससे वंचित रह जाता है. इसी लिए उनका उद्देश्य है कि बड़े गांवों में हर गली में प्रोसेङ्क्षसग यूनिट लगाई जाए.