वर्ल्ड कप 2011 के फाइनल पर लगा फिक्सिंग का आरोप, श्रीलंका में आपराधिक जांच शुरू

0
221
views

श्रीलंका के पूर्व खेल मंत्री महिंदानंद अलुथगामगे ने दावा किया कि श्रीलंका ने भारत को जीत दिलाने के लिए विश्व कप 2011 के फाइनल को बेच दिया था। इस मामले में श्रीलंकाई सरकार ने आरोपों की आपराधिक जांच के आदेश दे दिए हैं। खेल मंत्रालय के सचिव केडीएस रुवाचंद्र ने एएफपी न्यूज एजेंसी से बात करते हुए कहा है, “आपराधिक जांच शुरू हो गई है।”

इस महीने की शुरुआत में यह मुद्दा उछाला गया था, जब स्थानीय टीवी चैनल के साथ एक साक्षात्कार में अलुथगामगे (जो उस समय श्रीलंका के खेल मंत्री थे) ने कहा कि भारत और श्रीलंका के बीच 2011 विश्व कप फाइनल फिक्स किया गया था। अलुथगामगे ने कहा था, “आज मैं आपको बता रहा हूं कि हमने 2011 का विश्व कप बेचा, मैंने यह कहा था जब मैं खेल मंत्री था।”

समाचार एजेंसी एएफपी ने श्रीलंका से स्थानीय रिपोर्टों का हवाला देते हुए यह भील दावा किया था कि श्रीलंका के पूर्व कप्तान अरविंदा डिसिल्वा (2011 के फाइनल के लिए टीम के मुख्य चयनकर्ता थे) को मंगलवार को जांचकर्ताओं के साथ साक्षात्कार के लिए बुलाया गया था।

हाल ही में संडे टाइम्स के एक कॉलम में डिसिल्वा ने आरोपों का खंडन किया था और एसएलसी, बीसीसीआइ और आइसीसी से इस विषय पर किसी भी संदेह को दूर करने के लिए मामले की जांच करने का आग्रह किया था। उन्होंने अपने कॉलम में लिखा था, “हम झूठ के साथ लोगों को हर समय दूर नहीं होने दे सकते। मैं सभी से अनुरोध करता हूं, आइसीसी, बीसीसीआइ और एसएलसी तुरंत इसकी जांच करे।”

2011 विश्व कप फाइनल में श्रीलंका के कप्तान कुमार संगकारा ने टॉस जीतने के बाद बल्लेबाजी करने का चुनाव किया। महेला जयवर्धने ने शानदार शतक बनाया और भारत को 275 रनों के लक्ष्य का पीछा करने के लिए कहा गया। गौतम गंभीर (97) और उसके बाद कप्तान महेंद्र सिंह धौनी (91) के शानदार प्रदर्शन की बदौलत भारत ने ट्रॉफी जीतने के लिए 6 विकेट शेष रहते लक्ष्य हासिल किया।