कोरोना की संभावित तीसरी लहर से निपटने के लिये रणनीति हो रही तैयार

0
41
views
Image Credit: google

किन्नौर जिला प्रशासन द्वारा कोरोना की संभावित तीसरी लहर से निपटने के लिये चौतरफा रणनीति के तहत कार्य किया जा रहा है। जिला प्रशासन द्वारा जहां सम्भावित तीसरी लहर से निपटने के लिए अधोसंरचना तैयार की जा रही वहीं दूसरी तरफ लोगों को कोविड 19 के प्रति सूचना एवं जनसंपर्क विभग व जिला प्रशासन द्वारा प्रचार वाहनों के माध्यम से जागरूक भी किया जा रहा। जिले के क्षेत्रीय अस्पताल सहित सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र पूह,सांगला व भावानगर निचार  में कोविड रोगियों के उपचार के लिए सुविधाएं सृजित की जा रही है। रिकोंगपीओ स्थित क्षेत्रीय अस्पताल मे पुरूष, महिलाओं व बच्चों का कोविड से उपचार के लिये अलग से 20 बिस्तरों की क्षमता का अलग से वार्ड बनाया गया है । यहाँ सभी बिस्तरो को ऑक्सीजन सिलेंडर से जोड़ा गया है। इसी प्रकार बच्चों के लिये भी कमरे में अलग बेड लगाये गये हैं इन्हें भी आक्सीजन व अन्य सुविधाओं से लैस किया गया। ताकि कोरोना  सम्भावित तीसरी लहर से सही प्रकार से निपटा जा सके। आवश्यकता अनुसार यहाँ बिस्तरों की क्षमता को 30 तक बढ़ाया जा सकता है। वही दूसरी ओर सूचना एवं जनसंपर्क विभाग द्वारा प्रचार वाहन के माध्यम से ग्राम वासियों, पर्यटको व होटल, ,होम स्टे ब्यबसायियो को कोविड के नियमों के बारे जागरूक किया जा रहा है।जिले  मे वैसे कोरोना के रोगियों में भारी कमी आई है।

जिले में  इस समय कोरोना के मात्र 10 सक्रिय मामले है। परंतु जिला प्रशासन कोई भी जोखम नहीं लेना चाह रहा। इसी को दृष्टिगत रखते हुए चौतरफा रणनीति को अपना रहा है। कोविड टेस्टिंग में तेजी लाई गई है जिले मे अब तक कुल 59663 सेम्पल लिए गये है। पर्यटकों के भी रेंडम सेम्पल लिये जा रहे तथा इन्हें कोविड नियमों की अनुपालना के लिये प्रेरित किया जा रहा है। होटल व्यवस्याए को कोविड दिशानिर्देशो का कड़ाई से पालन सुनिश्चित बनाने के लिए जागरूक किया जा रहा है। वही जिला प्रशासन के अधिकारियों द्वारा औचक निरीक्षण भी किये जा रहे।मास्क न पहनें व कोविड नियमों की अवेहलना पर जुर्माना भी लगाया जा रहा है। ताकि जिले मे कोविड संक्रमण को रोका जा सके।